राजीव गांधी फाउंडेशन विवाद: CAIFC के साथ गठजोड़ के आरोप, जाकिर नाइक ने भी कभी दिया था चंदा

राजीव गांधी फाउंडेशन विवाद: CAIFC के साथ गठजोड़ के आरोप, जाकिर नाइक ने भी कभी दिया था चंदा

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के लक्ष्यों को आगे बढ़ाने के लिए 21 जून 1991 को सोनिया गांधी ने इस फाउंडेशन की नींव रखी थी। ये फाउंडेशन एजुकेशन, साइंस एंड टेक्नोलॉजी के प्रमोशन, शोषित (अंडरप्रिवलेज्ड) और दिव्यांगों के एम्पावरमेंट के लिए काम करता है।

चीन के साथ सीमा पर तनाव जारी है। इन सब के बीच बार्डर पर संघर्ष के बाद राजनीति का दौर भी देश में जारी है। कभी राहुल गांधी पूछ रहे सवाल। कभी प्रियंका वाड्रा उठा रहीं सवाल। चीन के साथ हुए संघर्ष को लेकर बुलाए गए सर्वदलीय बैठक में भी सिर्फ कांग्रेस के सुर ही सरकार से जुदा थे। लेकिन अब राजीव गांधी फाउंडेशन को लेकर लगातार हो रहे खुलासे के बाद कांग्रेस पार्टी सवालों के कटघरे में है।

इसे भी पढ़ें: BJP चीफ नड्डा ने कांग्रेस पर लगाया बड़ा आरोप, PMNRF का पैसा राजीव गांधी फाउंडेशन को दिया गया

सीएआईएफसी से साथ कांग्रेस का गठजोड़

राजीव गांधी फाउंडेशन की वेबसाइट का स्कीनशाट शेयर करते हुए बीजेपी मीडिया सेल के हेड अमित मालवीय ने ट्वीट किया कि साल 2004-05 में राजीव गांधी इंस्टीट्यूट फॉर कंटेम्पोरेरी स्टडीज द्वारा शुरू की गई गतिविधियों में से एक है चाइना एसोसिएशन फॉर इंटरनेशनल फ्रेंडली कॉन्टैक्ट (सीएआईएफसी) के रूप में सूचीबद्ध होना। अमित मालवीय ने कहा कि सीएआईएफसी चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी की छवि बनाने, खुफिया जानकारी जुटाने और प्रोपेगेंडा चलाने का काम करती है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल के घर ED की दस्तक, संदेसरा स्कैम केस में होगी पूछताछ

कांग्रेस को आ रहा चीनी दूतावास से फंड?

भारतीय जनता पार्टी ने इसे पहले आरोप लगाया था कि पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना की सरकार और भारत में चीनी दूतावास ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व वाले राजीव गांधी फाउंडेशन (आरजीएफ) को फंड किया है। सोनिया गांधी फाउंडेशन की अध्यक्ष हैं और इसके बोर्ड में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी शामिल हैं। राजीव गांधी फाउंडेशन की सालाना रिपोर्ट के अनुसार साल 2005-06 में राजीव गांधी फाउंडेशन को पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना की सरकार और चीनी दूतावास से दो अलग-अलग दानकर्ताओं के रूप में डोनेशन प्राप्त हुआ था।

इसे भी पढ़ें: चीन की धोखेबाजी की निंदा कर रही है पूरी दुनिया: गजेन्द्र सिंह शेखावत

राजीव गांधी फाउंडेशन क्या है?

बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के लक्ष्यों को आगे बढ़ाने के लिए 21 जून 1991 को सोनिया गांधी ने इस फाउंडेशन की नींव रखी थी। ये फाउंडेशन एजुकेशन, साइंस एंड टेक्नोलॉजी के प्रमोशन, शोषित (अंडरप्रिवलेज्ड) और दिव्यांगों के एम्पावरमेंट के लिए काम करता है। डोनेशन और इन्वेस्टमेंट पर मिलने वाले रिटर्न से इसका काम चलता है। 

इसे भी पढ़ें: सुधांशु त्रिवेदी ने पूछा सवाल, कहा- गाँधी परिवार के इर्द-गिर्द ही क्यों घूमता है कांग्रेस का आन्तरिक लोकतंत्र ?

भगौड़े मेहुल चौकसी ने दिया फंड 

फाउंडेशन को पंजाब नेशनल बैंक में हज़ारों करोड़ रुपए के घोटाले के अभियुक्त मेहुल चोकसी से भी दान मिला था। टाइम्स नाउ की खबर के अनुसार उसने 2014-15 में सोनिया गांधी के नेतृत्व वाले इस फाउंडेशन में अघोषित दान किया था।

इसे भी पढ़ें: लगता है कांग्रेस के नेता चीन के प्रवक्ता हैं, सवाल करने की नहीं करते हिम्मत: प्रह्लाद जोशी

साल 2011 में जाकिर नाइक ने दिया था 50 लाख का फंड

 आतंकियों से रिश्ते होने के आरोपी भगौड़े जाकिर नाइक की इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन ने 2011 में राजीव गांधी फाउंडेशन को 50 लाख रुपए दिए थे। हालांकि, कांग्रेस ने बाद में रकम लौटा दी थी। उस वक्त बीजेपी ने कहा था कि रकम लौटाकर लोगों को बेवकूफ बनाया गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।