राममंदिर का निर्माण कार्य तीन साल में होगा पूरा, करीब 1,100 करोड़ रुपए की आएगी लागत: न्यास के कोषाध्यक्ष

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 24, 2021   18:04
राममंदिर का निर्माण कार्य तीन साल में होगा पूरा, करीब 1,100 करोड़ रुपए की आएगी लागत: न्यास के कोषाध्यक्ष

न्यास के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरि महाराज ने कहा कि न्यास ने अभी तक मंदिर निर्माण की लागत पर कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लिए (मंदिर निर्माण हेतु) कुछ कॉरपोरेट से धन एकत्र करना संभव था।

मुंबई। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के एक महत्वपूर्ण पदाधिकारी ने कहा है कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण कार्य करीब तीन साल में पूरा होगा और उसपर करीब 1,100 करोड़ रुपये से ज्यादा की लागत आने की संभावना है। न्यास के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरि महाराज ने कहा, ‘‘मुख्य मंदिर का निर्माण तीन-साढ़े तीन साल में पूरा होगा और उसपर 300-400 करोड़ रुपये खर्च होने की संभावना है। पूरी 70 एकड़ भूमि के विकास कार्य में 1,100 करोड़ रुपये से ज्यादा की लागत आने की संभावना है।’’ उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण परियोजना से जुड़े विशेषज्ञों के साथ सलाह करने के बाद वह लागत के इस अनुमान पर पहुंचे हैं। 

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए दान जुटाने को संसदीय क्षेत्र में रथयात्रा निकालेंगे मनोज तिवारी 

एबीपी मांझा मराठी टीवी चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा कि न्यास ने अभी तक मंदिर निर्माण की लागत पर कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लिए (मंदिर निर्माण हेतु) कुछ कॉरपोरेट से धन एकत्र करना संभव था। कुछ (कॉरपोरेट) परिवार हमारे पास आए थे, उन्होंने अनुरोध किया था कि मंदिर का डिजाइन उन्हें सौंप दिया जाए और उन्होंने आश्वासन दिया था कि वे मंदिर परियोजना को पूरा करेंगे, लेकिन मैंने विनम्रता से उन्हें मना कर दिया।’’ राम मंदिर निर्माण के लिए धन संग्रह अभियान 2024 के लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए भाजपा का अभियान होने को लेकर कुछ हलकों द्वारा आलोचना किये जाने के बारे में पूछे जाने पर, उन्होंने कहा, ‘‘लोगों की आंखों पर जैसा चश्मा चढ़ा होता है, उन्हें वही दिखाई देता है।हमारी आंखों पर कोई चश्मा नहीं चढ़ा हुआ है और हमारी आंखें भक्ति की राह पर हैं।’’ 

इसे भी पढ़ें: पूर्व IAS नृपेंद्र मिश्रा दो दिवसीय अयोध्या दौरे पर, विशेषज्ञों के साथ नींव डिजाइन पर मंथन 

उन्होंने कहा, ‘‘हमारा लक्ष्य 6.5 लाख गांवों और 15 करोड़ घरों तक पहुंचने का है।’’ यह पूछने पर कि क्या वह मंदिर निर्माण के लिए दान लेने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास मातो श्री जाएंगे, उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह दान देने को तैयार हैं, तो मैं वहां जाउंगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘शिवसेना नेता और महाराष्ट्र विधान परिषद की उप सभापति नीलम गोरे ने हमें एक किलोग्राम चांदी की ईंट दी है।’’ महाराज ने पिछले सप्ताह राष्ट्रपति भवन जाकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मंदिर निर्माण के लिए 5,00,100 रुपये का चंदा प्राप्त किया। यह पूछने पर कि मंदिर निर्माण के लिए क्या वह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांयाी के पास भी जाएंगे, महाराज ने कहा कि मैं ऐसा करने को तैयार हूं, बशर्ते कोई मुझे गारंटी दे कि वहां मेरा अपमान नहीं किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।