मंत्री के बेटे के खिलाफ रेप के आरोप: गहलोत सरकार पर भड़के हनुमान बेनीवाल, CBI जांच की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 11, 2022   08:49
मंत्री के बेटे के खिलाफ रेप के आरोप: गहलोत सरकार पर भड़के हनुमान बेनीवाल, CBI जांच की मांग की
Google common license

राजस्थान के मंत्री के पुत्र के खिलाफ बलात्कार के आरोप लगाए गए है। सांसद हनुमान बेनीवाल ने एक बयान में मंत्री को हटाने में देरी पर सवाल उठाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने पिछले कार्यकाल में ऐसे मामलों को तुरंत सीबीआई को सौंप दिया था।

जयपुर।राजस्थान के नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने राजस्थान के मंत्री महेश जोशी के बेटे से जुड़े बलात्कार मामले की केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मंगलवार को मांग की और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से कहा कि वह अपने सहयोगी को राज्य मंत्रिमंडल से हटा दें। बेनीवाल ने एक बयान में मंत्री को हटाने में देरी पर सवाल उठाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने पिछले कार्यकाल में ऐसे मामलों को तुरंत सीबीआई को सौंप दिया था।

इसे भी पढ़ें: पूर्व केंद्रीय मंत्री पंडित सुखराम शर्मा का निधन, 94 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

बेनीवाल ने सवाल किया, ‘‘मंत्री को हटाने में मुख्यमंत्री देरी क्यों कर रहे हैं? मुख्यमंत्री क्या संदेश देना चाहते हैं?’’ राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रमुख बेनीवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री को इस मामले में राजस्थान में तुरंत प्राथमिकी दर्ज करने और सीबीआई को जांच सौंपने और पीड़िता को सुरक्षा देने की जरूरत है। एक युवती (23) ने राज्य के जन स्वास्थ्य और इंजीनियरिंग विभाग के मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित जोशी के खिलाफ बलात्कार के आरोप में नयी दिल्ली में प्राथमिकी दर्ज कराई है। शून्य प्राथमिकी दर्ज करने के बाद, दिल्ली पुलिस ने कहा कि उसने इसके बारे में राजस्थान पुलिस को सूचित कर दिया है जो आगे की जांच करेगी। इस बीच, दिल्ली पुलिस ने भी शून्य प्राथमिकी को नियमित प्राथमिकी में बदलने की प्रक्रिया शुरू कर दी है क्योंकि शिकायत में यह भी उल्लेख किया गया है कि कथित यौन उत्पीड़न दिल्ली के सदर बाजार पुलिस थाने के क्षेत्र में हुआ था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।