शिवसेना ने UPA में बदलाव की उठाई मांग, जानें क्या है इसके पीछे का कारण

uddhav thackrey
अंकित सिंह । Apr 04, 2022 1:03PM
राजनीतिक विश्लेषकों का यह भी मानना है कि यह पहला मौका नहीं है, जब कांग्रेस के साथ वाली कोई पार्टी उस पर निशाना साधती दिखाई दे रही है। पिछले सात-आठ सालों में कांग्रेस बेहद कमजोर हो चुकी है। यही कारण है कि विपक्ष के साथ-साथ उसके अपने भी उस पर हमलावर हैं।

पांच राज्यों में करारी शिकस्त के बाद कांग्रेस विरोधियों के साथ-साथ अपनों के भी निशाने पर है। महाराष्ट्र में कांग्रेस के साझेदार शिवसेना ने तो यह तक कह दिया कि कांग्रेस की नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन में बदलाव की जरूरत है। इसके साथ ही शिवसेना ने ऐसे नेताओं के भी नाम दिए हैं जो कि यूपीए का नेतृत्व कर सकते हैं। कहीं ना कहीं, इसे शिवसेना का कांग्रेस पर निशाना बताया जा रहा है। हालांकि सवाल यह है कि महाराष्ट्र में कांग्रेस के साथ गठबंधन के बावजूद शिवसेना यूपीए में बदलाव क्यों चाहती है? राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि महाराष्ट्र की राजनीति में एक साथ सरकार में होने के बावजूद शिवसेना और कांग्रेस के बीच कुछ ना कुछ विवाद होता रहता है। यही कारण है कि सरकार का नेतृत्व करने वाली शिवसेना असहज स्थिति में हो जाती है।

इसे भी पढ़ें: राजीव की कमाई, सोनिया ने गंवाई, राज्यसभा में अपने सबसे खराब दौर में कांग्रेस, 17 राज्यों से एक भी सांसद नहीं

राजनीतिक विश्लेषकों का यह भी मानना है कि यह पहला मौका नहीं है, जब कांग्रेस के साथ वाली कोई पार्टी उस पर निशाना साधती दिखाई दे रही है। पिछले सात-आठ सालों में कांग्रेस बेहद कमजोर हो चुकी है। यही कारण है कि विपक्ष के साथ-साथ उसके अपने भी उस पर हमलावर हैं। कांग्रेस के साथ ऐसी स्थिति तब तक बनी रहेगी जब तक वह मजबूत नहीं हो जाती है। कांग्रेस के भी कुछ ऐसे नेता है जिन्हे लगता है कि गांधी परिवार ही पार्टी की कर्ता-घर्ता है और इसी वजह से कांग्रेस की स्थिति नहीं सुधर पा रही है। लेकिन वह खुले तौर पर कुछ बोलते नहीं। कांग्रेस के नेतृत्व में भी संकट है। राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद अब तक पार्टी में इसके लिए चुनाव नहीं हुआ है। पार्टी के ही वरिष्ठ नेताओं का एक समूह लगातार कांग्रेस पार्टी में कई बड़े परिवर्तनों की मांग कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: मुस्लिम कट्टरपंथियों के कारण खुलकर भाजपा से जुड़ने में डरता है आम मुसलमान

वर्तमान में देखें तो महाराष्ट्र में कांग्रेस के साथ शिवसेना और एनसीपी महा विकास आघाडी की सरकार में साझीदार है। एनसीपी और शिवसेना का महाराष्ट्र के बाहर कोई जनाधार नहीं है। बावजूद इसके वह दोनों कांग्रेस पर जबरदस्त तरीके से हमलावर रहते है। सवाल यह है कि अगर कांग्रेस यूपीए की कमान छोड़ देते हैं तो उसकी जगह कौन लेगा? क्योंकि कई पार्टियों के नेता यह मानते हैं कि वह फिलहाल यूपीए का अच्छा नेतृत्व कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए फिलहाल एक नाम पर सहमति नहीं बन पा रही है और कांग्रेस यूपीए नेतृत्व को लेकर अब भी कायम है। वर्तमान में यूपीए का नेतृत्व सोनिया गांधी कर रही हैं। कुछ दिनों पहले शरद पवार से मुलाकात के बाद ममता बनर्जी ने यूपीए के अस्तित्व पर ही सवाल उठा दिया था। हालांकि राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि विपक्षी एकता को मजबूत रखने के लिए यूपीए का मजबूत होना बेहद जरूरी है। समय-समय पर इस बात की चर्चा होती रहती है कि यूपीए में बदलाव होंगे। लेकिन आज तक कुछ नहीं हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: सिंह देव ने कहा- AAP ने किया था संपर्क, लेकिन कांग्रेस छोड़ने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता

शिवसेना को लगता है कि यूपीए के मजबूत हुए बगैर विपक्ष का मजबूत होना मुमकिन नहीं है। यही कारण है कि शिवसेना के मुखपत्र सामना में ऐसे कई नेताओं के नाम लिए गए हैं जो कि यूपीए का नेतृत्व कर सकते हैं। सामना में कहा गया है कि उद्धव ठाकरे, ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल, चंद्रशेखर राव, शरद पवार और एमके स्टालिन इसका नेतृत्व कर सकते हैं। हालांकि यह सभी गैर कांग्रेसी हैं। लेकिन क्षेत्रीय नेता के तौर पर अधिक प्रभाव रखते हैं। लेकिन सवाल यही है कि क्या इन नेताओं के नाम पर सहमति बन पाएगी? यूपी के नेतृत्व में बदलाव को लेकर कांग्रेस को मनाना पड़ेगा। लेकिन कांग्रेस यूपीए के मालिकाना हक को लेकर फिलहाल नरम पड़ती दिखाई नहीं दे रही है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़