शिवराज सिंह बोले कांग्रेस मुझे हर दिन नए नाम दे रही है, कभी नालायक, कभी नंगा-भूखा और अब कमीने

  •  दिनेश शु्क्ल
  •  अक्टूबर 28, 2020   21:52
  • Like
शिवराज सिंह बोले कांग्रेस मुझे हर दिन नए नाम दे रही है, कभी नालायक, कभी नंगा-भूखा और अब कमीने
Image Source: Google

कमलनाथ कह रहे हैं कि शिवराज सिंह तो नालायक हैं। कांग्रेस के लोग मुझे रोज नए-नए नाम दे रहे हैं, गालियां दे रहे हैं, लेकिन मुझे इनकी गालियों से कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं तो अपने प्रदेश की जनता का सेवक हूं और उनकी सेवा में दिन-रात लगा रहूंगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कमलनाथ आपको घमंड होगा, आप सेठ हो, उद्योगपति हो, लेकिन मैं तो नंगा-भूखा, नालायक और कमीना ही अच्छा हूं।

भोपाल। गरीबों की सेवा में जो आनंद आता है उस आनंद की अनुभूति कमलनाथ जैसे नेता नहीं जान सकते। वे तो सेठ हैं, उद्योगपति हैं, वे क्या जानें गरीबों का दुख-दर्द और उनकी मुसीबतें क्या होती हैं। कमलनाथ ने कभी गरीबी नहीं देखी, कभी गांव नहीं देखे, वे तो सिर्फ आसमान में ही देखकर चलते हैं। गरीबों के दुख-दर्द को बांटने और उनकी सेवा का संकल्प लेकर ही हम राजनीति में आए और अब उनकी सेवा में दिन-रात लगे हुए हैं। भारतीय जनता पार्टी की सरकार का लक्ष्य ही गरीबों की सेवा है। ये बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अनूपपुर विधानसभा के फुनगा में आयोजिन जनसभा में कही। 

इसे भी पढ़ें: विकास के रिकार्ड बना रही केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकारः प्रहलाद पटेल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस के एक नेता दिल्ली से आए और उन्होंने मुझे एक नया नाम दिया कि शिवराज सिंह तो कमीने हैं। कांग्रेस के एक नेता ने कहा था कि मैं तो नंगा-भूखा हूं। कमलनाथ कह रहे हैं कि शिवराज सिंह तो नालायक हैं। कांग्रेस के लोग मुझे रोज नए-नए नाम दे रहे हैं, गालियां दे रहे हैं, लेकिन मुझे इनकी गालियों से कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं तो अपने प्रदेश की जनता का सेवक हूं और उनकी सेवा में दिन-रात लगा रहूंगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कमलनाथ आपको घमंड होगा, आप सेठ हो, उद्योगपति हो, लेकिन मैं तो नंगा-भूखा, नालायक और कमीना ही अच्छा हूं। कांग्रेस के पास चुनाव में कोई मुद्दे तो है नहीं, उनके पास तो यही मुद्दे हैं। कांग्रेस के पास कोई एजेंडा नहीं है। वे तो सिर्फ हमें कोसते रहेंगे। पहले सरकार में आए जब भी कोस रहे थे कि भाजपा सरकार ने खजाना खाली कर दिया, लेकिन हम क्या ओरंगजेब थे, जो खजाना लूट ले गए। इनके पास विकास कार्य कराने की इच्छाशक्ति नहीं थी। हमने भी सरकार में आते ही विकास कार्यों को शुरू किया और विकास कार्यों के लिए हमारे पास धन की कोई कमी नहीं है और न ही आने देंगे। चाहे कुछ हो जाए, विकास कार्य इसी गति से चलते रहेंगे।

इसे भी पढ़ें: विधायक तोड़ने का काम कांग्रेस ने शुरू किया, खत्म भाजपा ने कर दियाः गोपाल भार्गव

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने सवा साल में मध्यप्रदेश को तबाह और बर्बाद कर दिया। वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बना दिया था। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने महापाप किया, बड़े पदों की बोलियां लगती थी। कमलनाथ के पास उनके मंत्री-विधायकों से मिलने का समय नहीं होता था और कोई दलाल या बड़ा उद्योगपति आ जाता था तो द्वार खुल जाता था। मुख्यमंत्री ने कहा कि कमलनाथ-कांग्रेस ने लोकतंत्र को अपमानित करने का काम किया है। लोकतंत्र में जनता ही भगवान होती है, लेकिन कमलनाथ ने प्रदेश की जनता के लिए कुछ नहीं किया, इन्होंने तो अपना घर ही भरा है। कमलनाथ की दृष्टि ही विकास की नहीं थी, उनकी दृष्टि धन कमाने की थी। उनके पास मंत्री-विधायक विकास कार्य लेकर जाते थे तो कहते रहते थे कि पैसा नहीं है, चलो...चलो..., लेकिन जब इनके ही विधायकों ने कहना शुरू किया कि कमलनाथ अब चलो...चलो... तो कमलनाथ ही कुर्सी से चले गए।

इसे भी पढ़ें: यह चुनाव राष्ट्रवाद और राष्ट्र विराधियों के बीच : उमा भारती

उन्होंने कहा कि हम जनता के लिए काम करते हैं, हम कुर्सी पर बोझ नहीं हैं और जिस काम से जनता की जिंदगी बदली है वही हमारी प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि हम जनता को झुककर प्रणाम करते हैं तो वे कहते हैं कि शिवराज सिंह ने तो जनता के सामने घूटने ही टेक दिए हैं। यही उनकी सोच है। वे विकास के नहीं विनाश के पक्षधर हैं, इसीलिए उन्होंने मध्यप्रदेश को विनाश की तरफ धकेला है। उन्होंने कहा कि केंद्र में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने किसान सम्मान निधि के 6 हजार रूपए देना शुरू किया तो कमलनाथ सरकार ने किसानों की सूची नहीं भेजी। लाखों किसान सम्मान निधि से वंचित हो गए, लेकिन हमने सरकार में आते ही 77 लाख किसानों के नाम सूची में जोड़े हैं और अब प्रदेश के सभी किसानों को 4 हजार रूपए मिलाकर उनको प्रति वर्ष 10 हजार रूपए सम्मान निधि दी जाएगी।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश कांग्रेस ने मुख्यमंत्री और भाजपा सरकार के खिलाफ जारी किया आरोप पत्र, लगाए गंभीर आरोप

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने कभी भी प्रदेश में विकास को महत्व नहीं दिया। इन्होंने तो हमेशा विनाश करने का ही काम किया है। 2003 से पहले प्रदेश में बिजली, पानी, सड़क, स्वास्थ्य सुविधाएं चौपट थीं। मध्यप्रदेश में अंधेर नगरी-चौपट राजा का राज था। 2003 के बाद भाजपा की सरकार बनी तो विकास का पहिया घूमा और हमने 15 वर्षों में मध्यप्रदेश को विनाशकारी प्रदेश से विकासशील मध्यप्रदेश बनाया। उन्होंने कहा कि अब इस विकास की गति कभी रूकेगी नहीं। हमारा सरकार में आने का लक्ष्य ही प्रदेश के हर गरीब का विकास करना है, उसकी जिंदगी बदलना है।

इसे भी पढ़ें: शिवराज सरकार के इशारे पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के खिलाफ बनाए जा रहे झूठे केस- जीतू पटवारी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वर्ष 2003 में हमारी दीदी सुश्री उमा भारती ने भारतीय जनता पार्टी का जो विजय रथ शुरू किया था वह विजय रथ कोई नहीं रोक सकता। उस विजय रथ को लगातार आगे बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं की पार्टी है और कार्यकर्ताओं का मान, सम्मान, अभिमान कभी कम नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस उपचुनाव में भी भाजपा का विजयी रथ को रूकने नहीं देना है। कांग्रेस भाजपा को गाली दे रही है, मुझे गाली दे रही है, लेकिन यह अपमान सिर्फ भाजपा और मेरा ही नहीं पूरी पार्टी का अपमान है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


डीके शिवकुमार बोले, कांग्रेस महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद के हिंदुत्व में रखती है विश्वास

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2020   08:33
  • Like
डीके शिवकुमार बोले, कांग्रेस महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद के हिंदुत्व में रखती है विश्वास
Image Source: Google

शिवकुमार ने राज्य में हो रहे बदलाव और संगठन के तौर पर कांग्रेस को मजबूत करने को लेकर सोमवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई थी। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में बूथ एवं पंचायत स्तर पर समितियों का गठन किया जाएगा।

बेंगलुरु। कांग्रेस की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने सोमवार को कहा कि हिंदुत्व किसी एक की संपत्ति नहीं है और कांग्रेस महात्मा गांधी तथा स्वामी विवेकानंद के हिंदुत्व में विश्वास रखती है। अंतर-धार्मिक विवाह और हिंदुत्व की राजनीति के संबंध में पूछे गए एक सवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवकुमार ने संवाददाताओं से कहा, ' हमारा हिंदुत्व महात्मा गांधी का, स्वामी विवेकानंद का हिंदुत्व है। हिंदुत्व किसी एक की संपत्ति नहीं है। भारत की परंपरा, संस्कृति ही संपदा है जो हम सभी से संबंधित है। हम (कांग्रेस) अपने संविधान के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति के हितों की सुरक्षा करेंगे।'

इसे भी पढ़ें: तृणमूल कांग्रेस में अंसतोष के स्वर मुखर! भाजपा सांसद ने ममता को इस खतरे से चेताया

शिवकुमार ने राज्य में हो रहे बदलाव और संगठन के तौर पर कांग्रेस को मजबूत करने को लेकर सोमवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई थी। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में बूथ एवं पंचायत स्तर पर समितियों का गठन किया जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के 1324 नए मामले, 18 लोगों की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2020   08:29
  • Like
छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के 1324 नए मामले, 18 लोगों की मौत
Image Source: Google

स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य में सोमवार को 153 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई है, वहीं 1586 लोगों ने गृह-पृथकवास पूरा किया है ।

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पिछले 24 घंटों के दौरान 1324 नए लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है और राज्य में इस वायरस से संक्रमित हुए लोगों की संख्या 2,37,322 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी जानकारी दी । स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य में सोमवार को 153 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई है, वहीं 1586 लोगों ने गृह-पृथकवास पूरा किया है । राज्य में कोरोना वायरस संक्रमित 18 लोगों की मौत हुई है। विभाग के अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि आज संक्रमण के 1324 मामले आए हैं। इनमें रायपुर जिले से 186, दुर्ग से 169, राजनांदगांव से 73, बालोद से 74, बेमेतरा से 26, कबीरधाम से 28, धमतरी से 33, बलौदाबाजार से 57, महासमुंद से 35, गरियाबंद से 23, बिलासपुर से 103, रायगढ़ से 104, कोरबा से 63, जांजगीर—चांपा से 118, मुंगेली से 14, गौरेला—पेंड्रा—मरवाही से चार, सरगुजा से 30, कोरिया से 21, सूरजपुर से 47, बलरामपुर से 32, जशपुर से आठ, बस्तर से 12, कोंडागांव से 19, दंतेवाड़ा से 18, सुकमा से तीन, कांकेर से 19, नारायणपुर से एक, बीजापुर से दो तथा अन्य राज्य से दो मरीज शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के 1,879 नए मामले, संक्रमितों की तादाद 2 लाख 32 हजार के पार

अधिकारियों ने बताया कि छत्तीसगढ़ में अब तक 2,37,322 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है जिसमें से 2,14,826 मरीज इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हुए हैं, राज्य में 19,635 मरीज उपचाराधीन हैं। राज्य में वायरस से संक्रमित 2861 लोगों की मौत हुई है। राज्य के रायपुर जिले में सबसे अधिक 46,526 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि की गई है। जिले में कोरोना वायरस संक्रमित 656 लोगों की मौत हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


CM अमरिंदर ने किसानों के संघर्ष को बताया न्यायपूर्ण, कहा- सरकार किसानों की आवाज क्यों नहीं सुन रही

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2020   08:15
  • Like
CM अमरिंदर ने किसानों के संघर्ष को बताया न्यायपूर्ण, कहा- सरकार किसानों की आवाज क्यों नहीं सुन रही
Image Source: Google

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनकी सरकार इन ‘काले कानूनों’ के खिलाफ किसानों के साथ खड़ी रहेगी। उन्होंने कहा कि राज्यपाल इस विधेयक को राष्ट्रपति के पास भेजने की जगह उस पर ‘बैठ’ गए हैं।

सुलतानपुर लोधी। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के संघर्ष को ‘न्यायपूर्ण’ बताते हुये केंद्र सरकार से सवाल किया कि वह किसानों की आवाज क्यों नहीं सुन रही है और इस मुद्दे पर उसका हठी रवैया क्यों है। सिंह ने दोहराया कि उनकी सरकार इन ‘काले कानूनों’ के खिलाफ किसानों के साथ खड़ी रहेगी।

इसे भी पढ़ें: पंजाब ने जीएसटी राजस्व की भरपाई को कर्ज लेने के केंद्र के विकल्प को स्वीकार किया

मुख्यमंत्री ने ऐतिहासिक कस्बों सुल्तानपुर लोधी और डेरा बाबा नानक की यात्रा के दौरान अनौपचारिक तौर पर मीडियाकर्मियों से बातचीत के दौरान कहा, ‘‘ जनता की बात सुनना सरकार का काम है । अगर कई राज्यों के किसान इस प्रदर्शन में शामिल हो रहे हैं तो इसका मतलब है कि वे वास्तव में दुखी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इन कानूनों को किसानों के लिए फायदेमंद बताने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मोदी शुरू से यही कह रहे हैं और यही वजह है कि पंजाब इसके लिए अपने विधेयक लेकर आया। उन्होंने कहा कि राज्यपाल इस विधेयक को राष्ट्रपति के पास भेजने की जगह उस पर ‘बैठ’ गए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।