ज्ञानवापी मस्जिद में फिर से होगा सर्वे का काम, मंगलवार को अदालत तय करेगी नई तारीख

ज्ञानवापी मस्जिद में फिर से होगा सर्वे का काम, मंगलवार को अदालत तय करेगी नई तारीख
ANI

अदालत ने इसके लिए 2 दिन का समय भी दिया था। हालांकि वह प्रक्रिया एक ही दिन हो पाई थी। भारी विरोध की वजह से दूसरे दिन प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई थी। ऐसे में अब कोर्ट की ओर से नई तारीख का ऐलान किया जाएगा।

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर लगातार विवाद बढ़ता चला जा रहा है। अदालत के आदेश के बाद ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में सर्वे और वीडियोग्राफी का काम होना था। अदालत ने इसके लिए 2 दिन का समय भी दिया था। हालांकि वह प्रक्रिया एक ही दिन हो पाई थी। भारी विरोध की वजह से दूसरे दिन प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई थी। ऐसे में अब कोर्ट की ओर से नई तारीख का ऐलान किया जाएगा। मंगलवार दोपहर 2:00 बजे इस मामले की फिर से सुनवाई होगी जिसके बाद कोर्ट नई तारीख का ऐलान कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: ज्ञानवापी मस्जिद विवाद पर बोले असदुद्दीन ओवैसी, 90 के दशक की नफरत को फिर से जगा रही भाजपा

आपको बता दें कि जब सर्वे टीम मस्जिद परिसर में सर्वे और वीडियोग्राफी के लिए गई थी तब स्थानीय लोगों की ओर से जबरदस्त विरोध किया गया था। इस विरोध में एक समुदाय के लोग शामिल थे। दूसरी ओर मुस्लिम पक्ष ने कमिश्नर वकील को लेकर भी सवाल उठाए थे। इन सबके बीच रविवार को खबर आई कि हिंदू पक्ष की तरफ से राखी सिंह अपना केस वापस लेंगी। हालांकि आज यह बताया गया है कि वह अपना केस वापस नहीं लेने वाली है। भारी हंगामे के बीच से सर्वे का काम दूसरे दिन बीच में ही रोक दिया गया था।

इसे भी पढ़ें: ज्ञानवापी मस्जिद केस में बड़ा बवाल, मुस्लिम पक्ष में उठाएं कमिश्नर पर सवाल, हटाने की मांग की

गौरतलब है कि विश्व वैदिक सनातन संघ के पदाधिकारी जितेन्द्र सिंह विसेन के नेतृत्व में राखी सिंह तथा अन्य ने अगस्त 2021 में अदालत में एक वाद दायर कर शृंगार गौरी के नियमित दर्शन—पूजन और अन्य देवी—देवताओं के विग्रहों की सुरक्षा की मांग की थी। सिविल जज (जूनियर डिवीजन) रवि कुमार दिवाकर की अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद गत 26 अप्रैल को अजय कुमार मिश्रा को ‘एडवोकेट कमिश्नर’ नियुक्त कर ज्ञानवापी परिसर का वीडियोग्राफी—सर्वेक्षण करके 10 मई को अपनी रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।