तेजस्वी का आरोप, विपक्ष के नेता को नहीं मिल रहा सदन में प्रस्ताव रखने का मौका

तेजस्वी का आरोप, विपक्ष के नेता को नहीं मिल रहा सदन में प्रस्ताव रखने का मौका

बिहार विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन सोमवार को विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक हेलमेट पहनकर और काला मास्क लगाकर सदन पहुंचे। दरअसल करीब चार महीने पहले सदन में हुई हिंसा को लेकर नीतीश कुमार सरकार पर दबाव बनाने के लिए राजद की ओर से यह सांकेतिक विरोध किया गया है।

बिहार में राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी है। इन सबके बीच आज से बिहार विधानसभा का सत्र शुरू हुआ है। पिछले सत्र के दौरान हुए हो हंगामा को लेकर विपक्ष लगता नीतीश सरकार पर सवाल उठाता रहता है। इन सब के बीच आज राष्ट्रीय जनता दल के नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बड़ा आरोप लगाया है। तेजस्वी ने कहा कि सदन में विपक्ष के नेता को प्रस्ताव रखने का मौका नहीं दिया जा रहा है। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक तेजस्वी ने कहा कि हमने विधानसभा अध्यक्ष से कहा कि हम कल सदन में 2 प्रस्ताव रखेंगे। अध्यक्ष ने कहा कि आज सदन में आपको प्रस्ताव रखने का मौका नहीं मिला, आपको कल सदन में प्रस्ताव रखने का मौका मिलेगा। ऐसे दिन आ गए कि विपक्ष के नेता को सदन में प्रस्ताव रखने का भी मौका नहीं मिल रहा।

इसे भी पढ़ें: उपेंद्र कुशवाहा के बयान पर बिहार एनडीए में बवाल, भाजपा से किया पलटवार

वहीं, बिहार विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन सोमवार को विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक हेलमेट पहनकर और काला मास्क लगाकर सदन पहुंचे। दरअसल करीब चार महीने पहले सदन में हुई हिंसा को लेकर नीतीश कुमार सरकार पर दबाव बनाने के लिए राजद की ओर से यह सांकेतिक विरोध किया गया है। विधायकों ने 23 मार्च की घटना की ओर इशारा करते हुए दावा किया कि वे डर हुए हैं, क्योंकि यह सरकार उन्हें अचानक से पिटवा सकती है। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा को सबक सिखाने की तैयारी में मुकेश सहनी, अखिलेश और तेजस्वी का कर रहे धन्यवाद

गौरतलब है कि 23 मार्च को पुलिस बल को कथित तौर पर बगैर वारंट की गिरफ्तारी की शक्ति देने वाला एक विधेयक सदन में पेश करने के बाद अभूतपूर्व स्थित देखने को मिली थी। उस दिन विधानसभा अध्यक्ष के कक्ष का घेराव करने वाले विपक्ष के विधायकों को हटाने के लिए सदन में पुलिस बुलानी पड़ी थी। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक और पार्टी की प्रदेश इकाई के मुख्य प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने पत्रकारों से कहा, “ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा माफी मांगे जाने से कम कुछ मंजूर नहीं है। हमारे नेता तेजस्वी यादव सदन में इस आशय का प्रस्ताव लाने जा रहे हैं।”





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।