मध्य प्रदेश विधानसभा के भीतर लगेंगी शब्दों की आचार संहिता, मंत्री-विधायकों को दी जाएंगी असंसदीय शब्दों की सूची

मध्य प्रदेश विधानसभा के भीतर लगेंगी शब्दों की आचार संहिता, मंत्री-विधायकों को दी जाएंगी असंसदीय शब्दों की सूची

प्रदेश की विधानसभा असंसदीय शब्दों का डॉक्यूमेंट तैयार कर रहा है। और अनुशासनात्मक समिति विधायकों को असंसदीय शब्दों की सूची सौंपेगी। जिसके तहत सदन के भीतर अब से शब्दों का भी अनुशासन रहेगा।

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा सदन के भीतर शब्दों की मर्यादा को लेकर बड़ी तैयारी कर रहा हैं। प्रदेश का कोई भी विधायक या मंत्री सदन के अंदर अब पप्पू, फेंकू जैसे शब्दों का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं कर पाएंगे। इसके लिए सदन के भीतर शब्दों की आचार संहिता लगाई जाएगी।

इसे भी पढ़ें:मध्यप्रदेश के 218 विधायकों को मिला विधानसभा से अल्टीमेटम, 30 जून तक भेजना होगा वित्तीय ब्यौरा 

बता दें कि प्रदेश की विधानसभा असंसदीय शब्दों का डॉक्यूमेंट तैयार कर रहा है। और अनुशासनात्मक समिति विधायकों को असंसदीय शब्दों की सूची सौंपेगी। जिसके तहत सदन के भीतर अब से शब्दों का भी अनुशासन रहेगा और विलोपित होने वाले शब्द विधायक बोल नहीं पाएंगे।

इसे भी पढ़ें:राजधानी भोपाल में नाबालिक बच्चों का पुलिस ने निकाला जुलूस 

वहीं विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह ने कहा कि इससे सदन में असंसदीय शब्दों पर रोक लगेगी। सदन की गरिमा के लिए असंसदीय शब्दों की सूची तैयार की जा रही है। ये सूची सभी सदस्यों को दी जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।