जिनके नसीब में नेता विपक्ष पद नहीं, वो PM बनने के सपने देख रहे हैं: मोदी

those-who-do-not-have-a-leader-in-opposition-are-dreaming-to-become-pm-modi
प्रधानमंत्री ने कहा कि मतदान का प्रतिशत कम होने का ठीकरा सपा और बसपा के सिर फोड़ते हुए कहा कि पहले प्रधानमंत्री-प्रधानमंत्री खेलने वाले लोग अब छिपम-छिपाई खेलने लगे हैं। जनता ने चार चरणों के चुनाव में उनके सपनों को चूर-चूर कर दिया है।

बाराबंकी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को दावा किया कि उनके डर से देश में आतंकवाद की घटनाएं रुकी हैं, मगर इस खतरे को पूरी तरह खत्म करने के लिये केन्द्र में उनके नेतृत्व वाली मजबूत सरकार दोबारा बनानी होगी। उन्होंने यह भी कहा कि अगर सरदार पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो देश के किसानों की हालत बहुत अच्छी होती। मोदी ने बहराइच और बाराबंकी में चुनावी रैलियों में कहा कि उनकी सरकार की प्रतिबद्धता की वजह से आतंकवाद सीमित दायरे में हो गया है। उन्होंने कहा  अब आपको मंदिरों, बाजारों, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन पर बम धमाके की खबरें नहीं सुनायी देती हैं। ये मोदी के डर के कारण बंद हुआ है, लेकिन अभी वो सुधरे नहीं हैं, खतरा अभी टला है, खत्म होना बाकी है। आज भी हमारे आसपास आतंकी नर्सरी चल रही है। उन्होंने कहा  इस क्षेत्र को रामायण सर्किट और बुद्ध सर्किट के जरिये पूरे देश से जोड़ा जा रहा है, लेकिन याद रखिये, जब आतंकवाद बढ़ता है तो उसका पहला शिकार आस्था के ऐसे ही केन्द्र होते हैं, इसलिये देश को ऐसी ही मजबूत सरकार की जरूरत होगी। कमल पर पड़ने वाला वोट राष्ट्ररक्षा के लिये होगा। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी और शाह के कथित आचार संहिता उल्लंघन मामले में SC ने आयोग से मांगा जवाब

मोदी ने कहा कि अगर सरदार पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो किसानों की हालत इतनी अच्छी होती, जिसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता। सरदार पटेल किसानों के लिये सोचने वाले नेता थे, लेकिन कांग्रेस ने उनको देश का पहला प्रधानमंत्री नहीं बनाया। प्रधानमंत्री ने कहा कि मतदान का प्रतिशत कम होने का ठीकरा सपा और बसपा के सिर फोड़ते हुए कहा कि पहले  प्रधानमंत्री-प्रधानमंत्री  खेलने वाले लोग अब  छिपम-छिपाई  खेलने लगे हैं। जनता ने चार चरणों के चुनाव में उनके सपनों को चूर-चूर कर दिया है। अब इन लोगों ने एक अफवाह फैलाना शुरू किया है। वे मतदाताओं से कहते हैं कि अरे अपने इलाके में मोदी, राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ की सभा की क्या जरूरत है। भाजपा तो चुनाव जीत ही गयी है। वे मतदाताओं के दिमाग में यह बात भर रहे हैं, ताकि मतदान कम हो।

इसे भी पढ़ें: मोदी की नैया डूबती देख राहुल की नागरिकता पर ‘झूठ का बवंडर’ खड़ा किया गया: कांग्रेस

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर जोरदार हमला करते हुए कहा कि आज हालत ऐसी है कि इस बात का पता ही नहीं है कि उसे प्रतिपक्ष का नेता बनने का मौका मिलेगा भी या नहीं। वर्ष 2014 में तो मौका मिला नहीं था। इस बार तो जनता इतने गुस्से में है कि 2019 में भी उन्हें कुछ नसीब नहीं होगा। उन्होंने कहा  जो लोग 50-55 सीट लेकर विपक्ष का नेता बनने तक की स्थिति में नहीं हैं, वो प्रधानमंत्री बनने के लिये दर्जी के पास कपड़े सिला रहे हैं। ये लोग चाहते हैं कि किसी भी तरह खिचड़ी सरकार बन जाए। कमजोर सरकार बन जाए। तब तीन महीने कोई प्रधानमंत्री बनेगा और तीन महीने कोई और। आपको क्या ऐसी बात मंजूर है। ऐसे लोगों को क्या वाकई देश और उसकी जनता के भविष्य की चिंता है? 

इसे भी पढ़ें: पीएम पद की कोई वैकेंसी नहीं, केंद्र में राजग सरकार बनना तय: पासवान

मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने बेनामी सम्पत्ति के खिलाफ कानून बनाकर उसे लागू किया, जिसकी वजह से अब तक हजारों करोड़ रुपये की लगभग दो हजार बड़ी—बड़ी बेनामी सम्पत्तियां हमारी सरकार जब्त कर चुकी है। जिन लोगों की सम्पत्तियां जब्त हुई वे अब मोदी को हटाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि लाख दबाव के बावजूद उन्होंने करीब साढ़े तीन लाख फर्जी कम्पनियों को एक झटके में ताला लगा दिया। ये कम्पनियां काले धन की मशीन थीं, मोदी ने इस मशीन को ही बंद नहीं किया, बल्कि काले धन की टंकी की टोटी को ही सील कर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि विकास और नये भारत के सपने तभी पूरे हो सकते हैं, जब सुरक्षा की गारंटी होगी, इसलिये आपको बहुत चौकन्ना रहने की भी जरूरत है। वोट बैंक से मजबूर ये  महामिलावटी  लोग देश को 2014 से पहले की स्थिति में ले जाने की तैयारी कर रहे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़