क्या है ज्ञानवापी मंदिर और श्रृंगार गौरी मंदिर विवाद, क्यों होने जा रहा है आज सर्वे और मुस्लिम पक्ष को है क्या ऐतराज?

Gyanvapi
Creative Common
अभिनय आकाश । May 06, 2022 1:12PM
काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद परिसर स्थित श्रृंगार गौरी सहित अन्य विग्रहों में दर्शन पूजन और सुरक्षा की मांग को लेकर वाराणसी के सिविल जज सीनियर डिवीजन की ओर से कमीशन की कार्रवाई के तहत आज कोर्ट कमिश्नर की ओर से सर्वे और वीडियोग्राफी होनी है। सर्वे से पहले काशी की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

आज सभी की निगाहें काशी पर रहने वाली है क्योंकि काशी की ज्ञानवापी मस्जिद के रहस्यों से पर्दा उठने का वक्त आ गया है। अदालत के आदेश पर आज काशी में ज्ञानवापी मस्जिद की वीडियोग्राफी होनी है। काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद परिसर स्थित श्रृंगार गौरी सहित अन्य विग्रहों में दर्शन पूजन और सुरक्षा की मांग को लेकर वाराणसी के सिविल जज सीनियर डिवीजन की ओर से कमीशन की कार्रवाई के तहत आज कोर्ट कमिश्नर की ओर से सर्वे और वीडियोग्राफी होनी है। सर्वे से पहले काशी की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।  

इसे भी पढ़ें: लाउडस्पीकर विवाद पर बोले लालू प्रसाद यादव, देश को बांटने की हो रही कोशिश ! हनुमान चालीसा पढ़ना है तो मंदिरों में पढ़ें

वाराणसी के कोर्ट में ज्ञानवापी मस्जिद और काशी विश्वनाथ परिसर में श्रृंगार गौरी मंदिर और दूसरे देवी-देवताओं के मंदिरों की स्थिति को लेकर सर्वे करने का निर्देश दिया गया है। इसके लिए आज शाम 4 बजे का वक्त तय किया गया है। सर्वे के लिए एडवोकेट कमिश्नर की टीम मंदिर और मस्जिद के कैंपस में पहुंचेगी। हालांकि मुस्लिम पक्ष को कोर्ट के इस आदेश पर कड़ा ऐतराज है। 

क्यों किया जा रहा है सर्वे

देवताओं की मूर्ति जिस स्थान पर स्थित है उसे साल भर में एक बार पूजा के लिए खोला जाता है। कोर्ट में पांच महिलाओं ने एक याचिका दायर करके कोर्ट से ऋंगार गौरी मंदिर में रोज पूजा करने की अनुमति दिए जाने की अपील की थी। कोर्ट से अनुमति की जरूरत इसलिए पड़ी क्योंकि श्रृंगार गौरी मंदिर ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में ही मौजूद है और मस्जिद की दीवार से सटा हुआ है। इस साल अप्रैल में ही स्थानीय अदालत ने एक कोर्ट कमिश्‍नर की नियुक्ति की थी। साथ ही 10 मई तक क्षेत्र की वीडियोग्राफी करवाने और एक सर्वे रिपोर्ट देने का आदेश दिया था। 

मुस्लिम पक्ष को क्या है ऐतराज?

मस्जिद कमेटी के अनुसार अगर वीडियोग्राफी कराई जाएगी तो मस्जिद की सुरक्षा से समझौता होगा। ऐसा वो होने नहीं देंगे। कानून के दायरे में रहकर किसी को अंदर नहीं आने दिया जाएगा।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़