भारत को इस्लामिक स्टेट बनाने सहित प्रधानमंत्री मोदी की हत्या की रची जा रही थी साजिश? पटना में पकड़े गये आतंकवादी मॉड्यूल की NIA ने शुरू की जांच

terrorist
Prabhasakshi
रेनू तिवारी । Jul 28, 2022 9:27AM
बिहार पुलिस द्वारा पटना में एक आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ करने के दो हफ्ते बाद, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने मामले की जांच शुरू कर दी है और दरभंगा में तीन संदिग्ध आतंकवादियों, नूरुद्दीन, सनाउल्लाह और मुस्तकीम के घरों पर छापेमारी की है।

भारत सरकार आतंकवाद को भारत की जड़ों से निकाल कर फेंक देना चाहती हैं। इसके लिए मोदी सरकार जब से सत्ता में आयी है अलग-अलग तरह से सफल-असफल दोनों तरह की कोशिशें लगातार कर रही हैं। ऐसे में कश्मीर में हो रही लगातार टारगेटिंग किलिंग को रोकने के लिए सेना लगाचार अभियान चला कर आतंकियों को ढूंढ रही हैं। वहीं दूसरी तरफ अन्य राज्यों में भी आतंकी गतिविधियां देखने को मिल रही हैं। कुछ ही दिनों पहले उदयपुर में हुई वारदात को इसलिए अंजाम दिया गया ताकि लोगों के दिलों में डर बनाया जा सकें। इसके बाद पटना में हुई एक घटना के पीछे आतंकी साजिश होने का भी संभावना है। माना जा रहा है यह एक बड़ी घटना को अंजाम देने वाले थे। इस लिए अब इसकी जांच एनआईए कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: मानवाधिकारों का सम्मान हो, श्रीलंका के लोगों की आकांक्षाओं को सुना जाए : अमेरिकी राजदूत

बिहार पुलिस द्वारा पटना में एक आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ करने के दो हफ्ते बाद, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने मामले की जांच शुरू कर दी है और दरभंगा में तीन संदिग्ध आतंकवादियों, नूरुद्दीन, सनाउल्लाह और मुस्तकीम के घरों पर छापेमारी की है। तीनों आरोपी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के सक्रिय सदस्य हैं।

इसे भी पढ़ें: उच्च न्यायालय ने व्हॉट्सएप की निजता नीति को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई सितंबर तक टाली

हाल ही में लखनऊ में गिरफ्तार किए जाने के बाद इन तीनों में से नूरुद्दीन फिलहाल पटना की जेल में बंद है। हालांकि सनाउल्लाह और मुस्तकीम फिलहाल फरार हैं। सूत्रों ने बताया कि एनआईए की तीन टीमें नूरुद्दीन, सनाउल्लाह और मुस्तकीम गांवों में सुबह से ही मौजूद हैं और तलाशी ले रही हैं।

मॉड्यूल 2047 तक भारत को एक इस्लामिक राष्ट्र बनाने की योजना बना रहा था। रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने की साजिश भी थी। फिलहाल मामले की जांच एनआईए कर रही है। गृह मंत्रालय ने हाल ही में पटना पुलिस से पटना आतंकी मॉड्यूल मामले को राष्ट्रीय जांच एजेंसी को सौंपने का आदेश दिया था। पीएफआई के सक्रिय सदस्यों समेत 26 संदिग्ध आतंकियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस अब तक पांच लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है और बाकी फरार हैं।

पटना आतंकी मॉड्यूल मामले का भंडाफोड़ 14 जुलाई को अतहर परवेज और झारखंड पुलिस के सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी मोहम्मद जलालुद्दीन की गिरफ्तारी के साथ हुआ था. पीएफआई के इन दोनों सक्रिय सदस्यों को पटना के फुलवारी शरीफ से गिरफ्तार किया गया था।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़