मध्य प्रदेश से पश्चिम बंगाल के लिए 02 जून से रवाना होगी श्रमिक विशेष ट्रेनें, कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी पर कसा तंज

मध्य प्रदेश से पश्चिम बंगाल के लिए 02 जून से रवाना होगी श्रमिक विशेष ट्रेनें,  कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी पर कसा तंज

'जमातियों' को बंगाल आने में कोई डर नहीं, अजमेर 'शरीफ' से प.बंगाल ट्रेन आती है तो कोरोना संक्रमण नहीं फैलता, मगर महाराष्ट्र से प्रवासी मजदूरों की लेकर ट्रेन आती है तो उससे संक्रमण फैलता है। ये कैसा तर्क बिंदु है[email protected], आपको बेचारे प्रवासी मजदूरों से क्या दुश्मनी है?

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री सुश्री ममता बनर्जी को पिछले सप्ताह पत्र लिखा था। जिसमें उन्होनें इंदौर से कोलकता विशेष ट्रेन चलाने की बात लिखी थी। जिसके लिए उन्होनें मुख्यमंत्री सुश्री ममता बनर्जी को केन्द्र सरकार से बात करने की बात कही थी। वही अब पश्चिम बंगाल के फंसे मजदूरों के लिए तीन श्रमिक विशेष ट्रेनें मध्य प्रदेश से रवाना हो रही है। जिसको लेकर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने ट्विट किया है। 

इसे भी पढ़ें: बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने संविधान के अनुक्षेद 30 पर उठाए सवाल

लॉकडाउन में फंसे पश्चिम बंगाल के मजदूरों को लेकर जाने वाली यह विशेष ट्रेन 02 और 06 जून को रवाना होगी। मध्य प्रदेश  से तीन विशेष ट्रेनें पश्चिम बंगाल जाएगी। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने इन स्पेशल ट्रेनों की जानकारी दी है। कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ट्विटर एकाउंट पर जानकारी साझा करते हुए बताया कि पश्चिम बंगाल के प्रवासी श्रमिकों के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विशेष ट्रेनों की व्यवस्था की है जो इंदौर,भोपाल और रतलाम से कोलकता तक चलाई जा रही है। जिसके लिए श्रमिक अपना रजिट्रेशन करवा ले। जिसका किराया एवं अन्य सुविधाओं पर होने वाला खर्च सरकार वहन करेगी।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बी. डी. शर्मा पर दर्ज हो लॉक डाउन उल्लंघन का प्रकरण

वही महाराष्ट्र से पश्चिम बंगाल जाने वाली स्पेशल ट्रेनों को लेकर सियासत शुरू हो गई है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को रेल मंत्रालय पर आरोप लगाया कि राज्य की बिना अनुमति के विशेष ट्रेनें पश्चिम बंगाल बेजी जा रही है। ममता ने कहा, 'हमारी जानकारी के बिना, 36 ट्रेनें मुंबई से आ रही हैं। मैंने महाराष्ट्र के साथ बात की, उन्हें भी सूचना देर से मिली। रेलवे अपने दम पर इसकी योजना बना रहा है।' ममता ने अम्फान तूफान का हवाला देते हुए कहा, बंगाल इस वक्त तूफान की तबाही से जूझ रहा है और रेलवे हर दिन श्रमिक स्पेशल ट्रेनें भेज रहा है। इससे कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी होगी। ममता ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए आगे कहा, 'वे मुझे राजनीतिक रूप से परेशान कर सकते हैं, वे राज्य को नुकसान क्यों पहुंचा रहे हैं।'

इसे भी पढ़ें: 'अपनी जरूरत-अपना गांव' की परिकल्पना को साकार करे आईकेन टीम: विनय सहस्त्रबुद्धे

तो दूसरी तरफ बीजेपी के पश्चिम बंगाल प्रभारी और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने मुख्यमंत्री सुश्री ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए ट्विट किया कि- 'जमातियों' को बंगाल आने में कोई डर नहीं, अजमेर 'शरीफ' से प.बंगाल ट्रेन आती है तो कोरोना संक्रमण नहीं फैलता, मगर महाराष्ट्र से प्रवासी मजदूरों की लेकर ट्रेन आती है तो उससे संक्रमण फैलता है। ये कैसा तर्क बिंदु है[email protected], आपको बेचारे प्रवासी मजदूरों से क्या दुश्मनी है? भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ट्विट द्वारा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को धर्म विशेष के लोगों का समर्थक दर्शाने की कोशिश की है। साथ ही उन्होनें अपने ट्विट के जरिए जमातियों पर भी निशाना साधा है जिन्हें पूरे देश में कोरोना संक्रमण फैलाने का दोषी माना जा रहा है। कैलाश विजयवर्गीय ने गुरूवार को ट्विट के जरिए अल्पसंख्यकों और धर्म विशेष के लोगों को संविधान के आर्टीकल 30 के द्वारा प्रदान विशेष प्रावधानों को लेकर भी विरोध जताया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।