Unlock 5 के 59वें दिन कोरोना वैक्‍सीन पर पीएम ने लिया तीन कंपनियों की तैयारियों का जायजा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   22:35
Unlock 5 के 59वें दिन कोरोना वैक्‍सीन पर पीएम ने लिया तीन कंपनियों की तैयारियों का जायजा

गहलोत ने शनिवार को राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (आरयूएचएस) अस्पताल, जयपुर में 70 बिस्तर वाले नए कोविड आईसीयू, छह जिलों में आरटी-पीसीआर जांच प्रयोगशाला तथा जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में अत्याधुनिक कैंसर उपचार वार्ड तथा अन्य चिकित्सा सुविधाओं का लोकार्पण भी किया।

अहमदाबाद/हैदराबाद/पुणे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के टीके के विकास कार्य की समीक्षा के लिए शनिवार को अहमदाबाद, हैदराबाद और पुणे का दौरा किया। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने कहा कि दिन भर के दौरे का उद्देश्य नागरिकों के टीकाकरण में भारत के प्रयासों में आने वाली चुनौतियों, तैयारियों और रोडमैप जैसे पहलुओं की जानकारी हासिल करना था। मोदी ने अपने दौरे की शुरुआत अहमदाबाद के नजदीक दवा कंपनी जाइडस कैडिला के संयंत्र के दौरे के साथ की। मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘अहमदाबाद में जाइडस बायोटेक पार्क का दौरा किया और जाइडस कैडिला द्वारा विकसित किये जा रहे डीएनए आधारित स्वदेशी टीके के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त की। मैंने इस कार्य में लगी टीम के प्रयासों के लिए उसकी सराहना की। भारत सरकार इस यात्रा में उनका सहयोग करने के लिए उनके साथ सक्रियता से काम कर रही है।’’ प्रधानमंत्री ने अहमदाबाद से करीब 20 किमी दूर स्थित जाइडस कैडिला के चांगोदर औद्योगिक क्षेत्र स्थित अनुसंधान केंद्र में टीके के विकास की प्रक्रिया की समीक्षा की। इस दौरान मोदी ने पीपीई किट पहन रखी थी। एक अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री दिल्ली से करीब नौ बजे अहमदाबाद हवाई अड्डे पहुंचे, जहां से वह जाइडस कैडिला के संयंत्र गए। उन्होंने वहां कंपनी के प्रमोटरों और अधिकारियों से बात की। उल्लेखनीय है कि जाइडस कैडिला ने कोविड-19 के खिलाफ जाइकोव-डी नामक संभावित टीके का विकास किया है जिसके पहले चरण का क्लिनिकल परीक्षण पूरा हो चुका है। कंपनी ने अगस्त में दूसरे चरण का परीक्षण शुरू किया है। एक अधिकारी के अनुसार कंपनी के अधिकारियों ने संयंत्र में टीका विकास कार्यों के बारे में मोदी को विस्तार से जानकारी दी। उन्हें टीका उत्पादन प्रक्रिया की जानकारी दी गयी। प्रधानमंत्री ने वहां वैज्ञानिकों और टीका के विकास से जुड़े लोगों से बातचीत की। जाइडस कैडिला के अध्यक्ष पंकज पटेल ने हाल ही में कहा था कि कंपनी का उद्देश्य मार्च 2021 तक टीके का परीक्षण पूरा करना है और वह एक साल में 10 करोड़ तक खुराक का उत्पादन कर सकती है। मोदी करीब एक घंटे तक संयंत्र में रहे। इसके बाद वह हवाईअड्डे के लिए निकले और वहां से 11.40 बजे हैदराबाद रवाना हो गए।

मोदी हैदराबाद के नजदीक हकीमपेट वायु सेना हवाई अड्डे पर दोपहर करीब एक बजे पहुंचे। हैदराबाद के हकीमपेट वायु सेना हवाई अड्डे पर उतरने के बाद तेलंगाना के मुख्य सचिव सोमेश कुमार, पुलिस महानिदेशक और अन्य अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री वायु सेना हवाई अड्डे से करीब 20 किलोमीटर दूर जीनोम वैली स्थित भारत बायोटेक की इकाई गए। भारत बायोटेक कोविड-19 की रोकथाम के लिए संभावित टीके कोवैक्सिन का विकास भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और राष्ट्रीय विषाणुविज्ञान संस्थान के साथ मिलकर कर रहा है, जिसके तीसरे चरण का परीक्षण चल रहा है। हैदराबाद में जीनोम वैली स्थित भारत बायोटेक की बीएसएल-3 (जैव-सुरक्षा स्तर 3) इकाई में टीके का विकास किया जा रहा है और यहीं इसका उत्पादन किया जाएगा। अधिकारियों के अनुसार प्रधानमंत्री ने वैज्ञानिकों और कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों से कोवैक्सिन के बारे में जानकारी प्राप्त की। घंटे भर के दौरे के बाद मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘हैदराबाद में भारत बायोटेक कंपनी में कोविड-19 के स्वदेशी टीके के बारे में जानकारी मिली। वैज्ञानिकों को अभी तक किए गए परीक्षण में प्रगति के लिए बधाई। उनकी टीम आईसीएमआर के साथ निकटता से काम कर रही है।’’ कंपनी से बाहर निकलने के बाद मोदी मुख्य द्वार पर अपने वाहन से उतर गए और मीडियाकर्मियों तथा पास खड़े लोगों का हाथ हिलाकर अभिवादन किया। मोदी तीन बजकर 30 मिनट पर पुणे के लिए रवाना हो गए और वहां वह साढ़े चार बजे पहुंचे। हैदराबाद से पुणे हवाई अड्डे पर शाम करीब साढ़े चार बजे पहुंचने के बाद मोदी हेलीकॉप्टर से सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के लिए रवाना हुए। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में मोदी ने वैज्ञानिकों से बातचीत की और वहां टीका विकास पर चल रहे कामकाज का जायजा लिया। वह दिल्ली जाने के लिए शाम छह बजे पुणे हवाई अड्डे रवाना हो गए। एक अधिकारी ने बताया कि मोदी के एसआईआई दौरे का उद्देश्य कोरोना वायरस के लिए टीके की प्रगति की समीक्षा करना है और इसके लांच के समय, उत्पादन और वितरण व्यवस्था का जायजा लेना है। टीके के विकास के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने वैश्विक दवा कंपनी एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ भागीदारी की है।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में कोरोना वायरस से संक्रमित 19 और लोगों की मौत, 2765 नये मामले

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 1634 नए मामले, 13 लोगों की मौत

मध्यप्रदेश में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 1634 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या 2,03,231 तक पहुंच गयी। वहीं, राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से 13 और व्यक्तियों की मौत की पुष्टि हुई है, जिससे मरने वालों की संख्या 3,237 हो गयी है। प्रदेश के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा, ‘‘पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से इंदौर में तीन, भोपाल, विदिशा व रतलाम में दो-दो, और जबलपुर, सागर, सतना एवं झाबुआ में एक-एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है।’’ उन्होंने बताया, ‘‘राज्य में अब तक कोरोना वायरस से सबसे अधिक 752 मौत इंदौर में हुई हैं, जबकि भोपाल में 515, उज्जैन में 100, सागर में 139, जबलपुर में 222 एवं ग्वालियर में 180 लोगों की मौत हुई हैं। बाकी मौतें अन्य जिलों में हुई हैं।’’ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में शनिवार को कोविड-19 के 568 नये मामले इंदौर जिले में सामने आये हैं, जबकि भोपाल में 356, ग्वालियर में 86 और जबलपुर में 48 नये मामले आये हैं।

इसे भी पढ़ें: जाइडस कैडिला के प्रमुख बोले, PM के दौरे ने हमें और बेहतर करने के लिए किया प्रोत्साहित

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 4,998 नये मामले, संक्रमित होने की दर 7.24 फीसदी

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के4,998नये मामले सामने आये जिसके बाद संक्रमण की दर 7.24 प्रतिशत हो गयी है जो 23 अक्टूबर के बाद सबसे कम है। इस बीच राजधानी में रिकार्ड 69051 नमूनों की जांच की गयी है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में इसकी जानकारी दी गयी है। बुलेटिन में कहा गया है कि संक्रमण से 89 और लोगों की मौत हो गयी है जिसके बाद राजधानी में इससे मरने वालों की संख्या बढ़ कर 8,998 हो गयी है। इसमें कहा गया है कि दिल्ली में अब तक का सबसे कम संक्रमण दर 23 अक्टूबर को 6.98 फीसदी थी। शुक्रवार को यह दर 8.51 प्रतिशत जबकि बृहस्पतिवार को 8.65 प्रतिशत एवं बुधवार को 8.49 फीसदी थी। इसके अनुसार दिल्ली में कल 69,051 नमूनों की जांच की गयी है जो एक रिकॉर्ड है। इनमें 33,147 आरटी—पीसीआर जांच और 35,904 त्वरित एंटीजन जांच शामिल है। बृहस्पतिवार को 64,455 नमूनों की जांच की गयी थी।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 4,998 नये मामले, संक्रमित होने की दर 7.24 फीसदी

महाराष्ट्र में कोविड-19 के 5,965 नए मामले, 75 लोगों की मौत

महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 5,965 नए मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर शनिवार को 18,14,515 हो गई। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस दौरान कोविड-19 से 75 मरीजों की मौत हुई और कुल मृतकों की संख्या बढ़कर 46,986 हो गई। कुल 3,937 मरीज इस दौरान स्वस्थ भी हुए और कुल ठीक हुए लोगों की संख्या बढ़कर 16,76,564 हो गई। राज्य में अभी 89,905 लोगों का इलाज चल रहा है। मुंबई में 1,063 नए मामले सामने आए हैं और शहर में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2,81,881 हो गई। 

इसे भी पढ़ें: मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 1634 नए मामले, 13 लोगों की मौत

राजस्थान में कोविड-19 की जांच 800 रुपये में होगी: गहलोत

राजस्थान में निजी प्रयोगशालाओं में कोरोना वायरस संक्रमण की जांच अब 1200 रुपये के बजाय 800 रुपये में होगी। राज्य सरकार ने शनिवार को इस बारे में आदेश जारी किया। इसमें कहा गया है कि देश में जांच किट के दाम में गिरावट व उपलब्धता को देखते हुए राज्य सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण की आरटी-पीसीआर जांच का अधिकतम शुल्क 1200 रुपये से घटाकर 800 रुपये करने का फैसला किया है। शासन सचिव सिद्धार्थ महाजन द्वारा जारी यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है। इससे पहले दिन में राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, किट की लागत में कमी को देखते हुए अब राज्य सरकार सभी निजी प्रयोगशालाओं को यह जांच 1200 रुपये के बजाय 800 रुपये में करने को पाबंद करेगी। गहलोत ने कहा कि राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण की जांच केवल आरटी-पीसीआर के जरिए हो रही है, जो पूरी दुनिया में सबसे विश्वसनीय जांच प्रक्रिया है। गहलोत ने शनिवार को राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (आरयूएचएस) अस्पताल, जयपुर में 70 बिस्तर वाले नए कोविड आईसीयू, छह जिलों में आरटी-पीसीआर जांच प्रयोगशाला तथा जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में अत्याधुनिक कैंसर उपचार वार्ड तथा अन्य चिकित्सा सुविधाओं का लोकार्पण भी किया। 

इसे भी पढ़ें: दीपावली के बाद भोपाल में कोरोना का कहर जारी, अब तक 31,333 कोरोना संक्रमित मिले

आंध्र प्रदेश में कोविड-19 के 625 नए मामले

आंध्र प्रदेश में कोविड-19 के 625 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर शनिवार को 8,67,063 हो गई। ताजा बुलेटिन में बताया गया कि पिछले 24 घंटे में सुबह नौ बजे तक पांच और लोगों की मौत हुई, जबकि 1,186 मरीज स्वस्थ हो गए। बुलेटिन के अनुसार अब 11,571 मरीजों का इलाज चल रहा है और अब तक 8,48,511 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, आंध्र प्रदेश में अभी कुल संक्रमण की पुष्टि दर 8.70 फीसदी है। राज्य में स्वस्थ होने की दर 97.86 फीसदी है जबकि मृत्यु दर 0.81 फीसदी है।

इसे भी पढ़ें: ओरछा के श्रीराम राजा का विवाह महोत्सव कोरोना गाइडलाइन के अनुसार तीन दिन चलेगा श्रीराम विवाह महोत्सव

कोविड टीके के वितरण और टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य प्रणाली तैयार कर रहा है विशेषज्ञ समूह: राघवन

देश के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन ने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर एक विशेषज्ञ समूह मौजूदा स्वास्थ्य सेवा से समझौता किए बिना कोविड-19 टीके के वितरण और टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य प्रणाली तैयार कर रहा है। उन्होंने जोर देकर कहा कि कोविड-19 महामारी ने अनुसंधान प्रयोगशालाओं और उद्योग के बीच तथा उद्योग और समाज के बीच असाधारण सहयोग को प्रोत्साहित किया है। उन्होंने कहा, ‘‘स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर एक विशेषज्ञ समूह ने टीकों के वितरण और टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य प्रणाली को तैयार करने के लिए काफी काम किया है। विजय राघवन के हवाले से एक बयान में कहा गया, यह सब मौजूदा स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं से समझौता किए बिना किया जा रहा है, जिसमें हमारे राष्ट्रीय चुनाव, टीकाकरण कार्यक्रम से जुड़े हमारे सार्वभौमिक प्रतिरक्षण कार्यक्रम के वृहद अनुभव का उपयोग किया जा रहा है। राघवन ने 26 नवंबर को ग्लोबल इनोवेशन एंड टेक्नोलॉजी एलायंस (जीआईटीए) के 9वें स्थापना दिवस पर आयोजित डिजिटल कार्यक्रम में यह बात की। विजयराघवन ने कहा कि विश्व स्तर पर आपूर्ति श्रृंखलाओं के संदर्भ में ‘आत्मनिर्भर भारत’ को देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘तीन स्तंभ हैं जिन्हें आत्मनिर्भरता की रूपरेखा तैयार करते समय ध्यान में रखने की आवश्यकता है, वह हैं- नीति, विनियमन, क्रियान्वयन और इसे तीव्रता और तालमेल के साथ किए जाने की आवश्यकता।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।