शेयर बाजारों ने शुरुआती लाभ गंवाया, सेंसेक्स 35000 के नीचे बंद, निफ्टी भी फिसला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 30, 2020   18:23
शेयर बाजारों ने शुरुआती लाभ गंवाया, सेंसेक्स 35000 के नीचे बंद, निफ्टी भी फिसला

अप्रैल-जून की तिमाही में सेंसेक्स 18.5 प्रतिशत या 5,447 अंक चढ़ा है। वहीं तिमाही आधार पर निफ्टी 20 प्रतिशत या 1,704 अंक मजबूत हुआ है। इस बीच, कोविड-19 के बढ़ते मामलों तथा इसके अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर निवेशक चिंतित हैं। इसके अलावा भारत-चीन सीमा तनाव से भी निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई है।

मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन से पहले निवेशकों द्वारा सतर्कता बरतने से सेंसेक्स और निफ्टी ने मंगलवार को शुरुआती लाभ को गंवा दिया और यह 46 अंक के नुकसान के साथ बंद हुआ। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान एक समय 272.39 अंक चढ़ गया था। अंत में सेंसेक्स 45.72 अंक या 0.13 प्रतिशत के नुकसान के साथ 34,915.80 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 10.30 अंक या 0.10 प्रतिशत के नुकसान से 10,302.10 अंक पर बंद हुआ। तिमाही प्रदर्शन के लिहाज से देखा जाए, तो अप्रैल-जून की तिमाही में सेंसेक्स 18.5 प्रतिशत या 5,447 अंक चढ़ा है। वहीं तिमाही आधार पर निफ्टी 20 प्रतिशत या 1,704 अंक मजबूत हुआ है। इस बीच, कोविड-19 के बढ़ते मामलों तथा इसके अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर निवेशक चिंतित हैं। इसके अलावा भारत-चीन सीमा तनाव से भी निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई है।

इसे भी पढ़ें: G-20 देशों ने अक्टूबर 2019 के मध्य से मई 2020 के मध्य तक 154 नये व्यापार और व्यापार संबंधित उपाय किये

विश्लेषकों ने कहा कि भारतीय बाजारों ने शुरुआती बढ़त को गंवा दिया, क्योंकि निवेशकों ने मोदी के संबोधन से पहले देखो और इंतजार करो का रुख अख्तियार किया। प्रधानमंत्री ने बाजार बंद होने के बाद अपने संबोधन में 80 करोड़ लोगों के लिए मुफ्त राशन योजना प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) को नवंबर अंत तक बढ़ाने की घोषणा की। देश के विभिन्न हिस्सों में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बावजूद सरकार ने सोमवार को ‘अनलॉक 2.0’ के दिशानिर्देश जारी िए थे। सेंसेक्स की कंपनियों में पावरग्रिड का शेयर सबसे अधिक करीब दो प्रतिशत टूट गया। सनफार्मा, आईटीसी, ओएनजीसी, भारती एयरटेल और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर भी नुकसान में रहे।

इसे भी पढ़ें: G-20 देशों ने अक्टूबर 2019 के मध्य से मई 2020 के मध्य तक 154 नये व्यापार और व्यापार संबंधित उपाय किये

वहीं दूसरी ओर मारुति, नेस्ले इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक और अल्ट्राटेक सीमेंट के शेयर लाभ में रहे। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 0.75 प्रतिशत तक का नुकसान रहा। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘दिन में ज्यादातर समय सकारात्मक दायरे में रहने के बाद बाजार नकारात्मक रुख के साथ बंद हुए। प्रधानमंत्री के राष्ट्र के नाम संबोधन से पहले बाजार में अनिश्चितता की स्थिति रही।’’ अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया सात पैसे की बढ़त के साथ 75.51 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। इस बीच, अन्य एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई कम्पोजिट, हांगकांग का हैंगसेंग, जापान का निक्की और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी उल्लेखनीय बढ़त के साथ बंद हुए। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजारों में गिरावट का रुख था। अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 1.36 प्रतिशत टूटकर 41.28 डॉलर प्रति बैरल रह गया। दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 1.03 करोड़ को पार कर गई है। अब तक इस महामारी से 5.05 लाख लोगों की मौत हुई है। भारत में कोविड-19 संक्रमण के मामले 5,66,840 पर पहुंच गई है। अब तक इस महामारी से 16,893 लोगों की जान गई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।