जम्मू-कश्मीर समेत भारत में आतंकवाद फैला रहे हैं इस्लामी आतंकवादी: अमेरिकी सांसद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2019   11:42
जम्मू-कश्मीर समेत भारत में आतंकवाद फैला रहे हैं इस्लामी आतंकवादी: अमेरिकी सांसद

फ्लोरिडा से सांसद रूनी ने अमेरिकी प्रतिनिधि सभा में ‘‘सहयोगी’’ भारत के साथ अहम संबंधों पर अपने भाषण में कहा कि उनकी अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ हाल में बैठक हुई जिसमें भारत एवं अमेरिका के बीच द्विपक्षीय संबंधों की महत्ता और भारत के समक्ष मौजूद अहम मामलों पर चर्चा की गई।

वॉशिंगटन। एक अमेरिकी सांसद ने संसद के अपने साथियों से आतंकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई में सहयोग की अपील करते हुए कहा कि इस्लामी आतंकवादी पूरे जम्मू-कश्मीर और भारत में अन्य जगहों पर लगातार खतरा पैदा कर रहे हैं और आतंकवाद फैला रहे हैं। सांसद फ्रांसिस रूनी ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत के समक्ष कई क्षेत्रीय एवं भूराजनीतिक खतरे हैं। इस्लामी आतंकवादी पूरे जम्मू-कश्मीर और भारत में अन्य जगहों पर लगातार खतरा पैदा कर रहे हैं, आतंकवाद फैला रहे हैं। हमें आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में नयी दिल्ली में सरकार का सहयोग करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका और भारत के रिश्ते हुए और मजबूत, 1 अरब डॉलर की नौसेना तोपों का हुआ सौदा

फ्लोरिडा से सांसद रूनी ने अमेरिकी प्रतिनिधि सभा में ‘‘सहयोगी’’ भारत के साथ अहम संबंधों पर अपने भाषण में कहा कि उनकी अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ हाल में बैठक हुई जिसमें भारत एवं अमेरिका के बीच द्विपक्षीय संबंधों की महत्ता और भारत के समक्ष मौजूद अहम मामलों पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि चीन का व्यवहार भारत के पड़ोसियों को अस्थिर कर रहा है, इसके पड़ोसियों को ऐसे कर्ज से लाद रहा है जिसका वे भुगतान नहीं कर पा रहे, जैसा कि श्रीलंका के हम्ब नटोटाबंदरगाह परियोजना में हुआ।

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी संसद में हांगकांग मानवाधिकार विधेयक पारित, अब ट्रंप पर टिकी नजरें

रूनी ने कहा कि भारत अपने शत्रु देश, अस्थिर एवं परमाणु हथियार से सशस्त्र पाकिस्तान के कारण हमेशा सतर्क रहता है। उन्होंने भारत को अमेरिका का अहम कारोबारी सहयोगी बताते हुए कहा कि हमें भारत के साथ व्यापारिक संबंधों को मजबूत करने एवं द्विपक्षीय विदेशी प्रत्यक्ष निवेश बढ़ाने की दिशा में लगातार काम करना चाहिए और एक मुक्त व्यापार समझौते को लेकर वार्ता पर विचार करना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...