जम्मू और कश्मीर में 168 आतंकवादी सक्रिय, 75 इस साल मारे गए : सेना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 12, 2022   17:45
जम्मू और कश्मीर में 168 आतंकवादी सक्रिय, 75 इस साल मारे गए : सेना
ani

जम्मू-कश्मीर में फिलहाल कम से कम 168 आतंकवादी सक्रिय हैं जबकि 75 आतंकवादी इस साल मुठभेड़ में मारे गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मारे गए आतंकवादियों में 21 विदेशी थे।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर में फिलहाल कम से कम 168 आतंकवादी सक्रिय हैं जबकि 75 आतंकवादी इस साल मुठभेड़ में मारे गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मारे गए आतंकवादियों में 21 विदेशी थे। उन्होंने बताया कि गत 11 महीने में, नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास ही मुठभेड़ों में आतंकवादियों का सफाया किया गया औरघुसपैठ की 12 कोशिशें नाकाम की गईं। सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने ‘‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘गहन अभियान (आतंकवाद रोधी) तबतक पूरी ताकत से चलेगा जब तक कि बाकी बचे करीब 168 आतंकवादी आत्मसमर्पण नहीं कर देते या मारे जाते हैं।’’

इसे भी पढ़ें: झारखंड सरकार ने धन शोधन मामले में गिरफ्तार खनन सचिव पूजा सिंघल को निलंबित किया

उन्होंने कहा कि सेना विनिर्दिष्ट तैनाती से संपूर्ण स्थिति लगातार सुधर रही है, फलस्वरूप सरकार के विकास कार्यों की पहलों की गति तेज करने के लिए सकारात्मक माहौल बन रहा है। अधिकारी ने कहा, ‘‘ शांति के फायदे लोगों तक पहुंचाने लगे हैं और वे भी शांति को बनाए रखने के लिए प्रेरित हो रहे हैं।’’ उन्होंने बताया कि वर्ष 2021 में सुरक्षाबलों ने 180 आतंकवादियों को मार गिराया था जिनमें से 18 विदेशी थे।

इसे भी पढ़ें: J&K के बडगाम में तहसीलदार ऑफिस में आतंकियों ने कर्मचारी पर दागी गोलियां, अस्पताल में कराया गया भर्ती

अधिकारी ने बाया कि यह खुफिया नेटवर्क के साथ समन्वय एवं आम लोगों के समर्थन से संभव हो सका। उन्होंने बताया कि पिछले साल 495 ओवर ग्राउंड वर्कर (आतंकवादी संगठनों के लिए काम करने वाले) पकड़े गए जबकि इस साल के शुरुआती चार महीनों में ही 87 ऐसे लोग पकड़े जा चुके हैं। अधिकारी ने कहा, ‘‘ दुश्मन द्वारा संघर्ष विराम का उल्लंघन, घुसपैठ की कोशिश या किसी अन्य दुस्साहसिक कोशिश का कड़ाई से जवाब दिया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।