अजित पवार ने केंद्र सरकार पर लगाया लापरवाही का आरोप, कहा- बाढ़ से हुए नुकसान की समीक्षा नहीं की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2020   13:56
अजित पवार ने केंद्र सरकार पर लगाया लापरवाही का आरोप, कहा- बाढ़ से हुए नुकसान की समीक्षा नहीं की

महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार को कई बार सूचना देने के बावजूद राज्य में बाढ़ से हुए नुकसान की समीक्षा करने के लिए अभी तक केंद्र से कोई दल नहीं आया है।

पुणे। महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार को कई बार सूचना देने के बावजूद राज्य में बाढ़ से हुए नुकसान की समीक्षा करने के लिए अभी तक केंद्र से कोई दल नहीं आया है। सतारा जिले के करद में स्थित प्रीतिसंगम में महाराष्ट्र के प्रथम मुख्यमंत्री यशवंतराव चव्हाण की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद पवार ने संवाददाताओं से कहा कि केंद्र सरकार को पार्टी और विचारधारा से ऊपर उठकर प्राकृतिक आपदा के समय राज्यों की सहायता करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: सेना के जवान का लातूर में राजकीय सम्मान के साथ किया गया अंतिम संस्कार

उन्होंने कहा, “जब राज्य में भारी बारिश से बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई थी तब मुख्यमंत्री, पुनर्वास मंत्री और मुख्य सचिव ने केंद्र को पत्र लिखा था। हालांकि अभी तक केंद्र से कोई दल नहीं आया है।” पवार ने कहा कि (कांग्रेस नीत) मनमोहन सिंह सरकार के समय यदि ऐसी आपदा आती थी तो नुकसान की समीक्षा के लिए तत्काल एक दल आता था और राहत पैकेज की घोषणा की जाती थी। उन्होंने कहा, “आज इतने दिनों बाद भी केंद्र से कोई दल नहीं आया है। राज्यों को केंद्र से मदद मिलनी चाहिए क्योंकि सभी राज्य भारत के अंग हैं।”

इसे भी पढ़ें: शिवसेना के नेता सरनाइक के घर पर ईडी की छापेमारी, विधायक बोले- चुप नहीं रहूंगा,फांसी पर भी लटका दो

पवार ने कहा कि प्राकृतिक आपदा आने पर केंद्र को पार्टी और विचारधारा के आधार पर पक्षपात नहीं करना चाहिए “लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है।” उन्होंने कहा, “इस मुद्दे को राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में फिर उठाया गया था और मुख्य सचिव से इस मामले को देखने को कहा गया था।” पवार ने यह भी कहा कि राज्य को अभी तक केंद्र से 29,000 करोड़ रूपये का जीएसटी मुआवजा नहीं मिला है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।