'अमरावती के केमिस्ट की नहीं थी किसी से कोई दुश्मनी', परिजनों को हत्या की वजह नहीं आ रही समझ, सामने आया भाई महेश का बयान

Umesh Kolhe
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
भाई महेश कोल्हे ने बताया कि 21 जून की रात को भाई हमेशा की तरह अपनी दुकान बंद कर घर जा रहे थे और उसी रात को किसी ने उनको चाकू मार दिया। मुझे फोन आया कि उन्हें किसी ने चाकू मार दिया है लेकिन जब मैं वहां पहुंचा तो उनकी मौत हो चुकी थी।

मुंबई। अमरावती में एक केमिस्ट की हत्या मामले की जांच एनआईए करेगी। इस मामले में अभी तक 6 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। गिरफ्तार किए गए 6 आरोपियों पर आईपीसी की धारा 302, 120B, और 109 के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसी बीच मारे गए केमिस्ट उमेश कोल्हे के भाई महेश कोल्हे का बयान सामने आया। जिसमें उन्होंने बताया कि उनके भाई की किसी से भी कोई दुश्मनी नहीं थी।

इसे भी पढ़ें: अमरावती में भी उदयपुर जैसा हत्याकांड! नुपुर के समर्थन में पोस्ट के बाद दवा व्यवसायी का 'सर तन से जुदा' 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, भाई महेश कोल्हे ने बताया कि 21 जून की रात को भाई हमेशा की तरह अपनी दुकान बंद कर घर जा रहे थे और उसी रात को किसी ने उनको चाकू मार दिया। मुझे फोन आया कि उन्हें किसी ने चाकू मार दिया है लेकिन जब मैं वहां पहुंचा तो उनकी मौत हो चुकी थी।

उन्होंने कहा कि उनकी कभी किसी से दुश्मनी नहीं थी। हमें समझ नहीं आ रहा कि इसके पीछे क्या वजह हो सकती है। 12 दिन हो गए लेकिन पुलिस ने हमें कोई कारण नहीं बताया है। हमने पुलिस से पूछा कि क्या यह लूटपाट का मामला है तो पुलिस ने कहा कि लूटपाट में शरीर पर घाव किए जाते हैं, गले पर नहीं। महेश कोल्हे ने बताया कि भईया ने कुछ मैसेज नूपुर शर्मा के बारे में कुछ ग्रुप में फॉरवर्ड किए थे। लेकिन इतने छोटे से फॉरवर्ड से जानलेवा हमला होना, हम नहीं समझ पा रहे हैं। अभी तक हमें कोई दूसरा कारण नजर नहीं आ रहा है।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में नुपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने वाले कैमिस्ट की दर्दनाक हत्या, NIA करेगी जांच, अब तक पांच गिरफ्तार 

हत्या की जांच करेगी NIA

केंद्र सरकार ने कहा कि अमरावती में एक केमिस्ट की हत्या मामले की जांच राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) करेगी। पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी करने के बाद भाजपा से निलंबित की गई नेता नुपुर शर्मा का समर्थन करने वाले उनके सोशल मीडिया पोस्ट से इस मामले के जुड़े होने की आशंका के बाद यह कदम उठाया गया है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़