छात्रा को कक्षा में बंद करने का एक और मामला सामने आया, शिक्षकों का होगा निलंबन

class came to light
Prabhasakshi
शिक्षकों और कर्मचारियों की लापरवाही से सरकारी स्‍कूल में पढ़ने वाली कक्षा दो की एक छात्रा को क्लास रूम में बंद करने का एक और मामला सामने आया है, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने स्‍कूल के सभी शिक्षकों और कर्मचारियों को निलंबित करने का फैसला किया है।

बुलंदशहर (उप्र)। शिक्षकों और कर्मचारियों की लापरवाही से सरकारी स्‍कूल में पढ़ने वाली कक्षा दो की एक छात्रा को क्लास रूम में बंद करने का एक और मामला सामने आया है, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने स्‍कूल के सभी शिक्षकों और कर्मचारियों को निलंबित करने का फैसला किया है। बुलंदशहर के गुलावठी विकास खंड के सेगड़ा पीर स्थित संविलियन विद्यालय में बृहस्‍पतिवार को स्‍कूल स्‍टाफ की लापरवाही सामने आई, जब दूसरी कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा इकरा को कक्षा में ही बंद करके चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी चला गया।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस का मुख्य शो भारत जोड़ो यात्रा है, जयराम रमेश बोले- ये भारतीय राजनीति का परिवर्तन है

गौरतलब है कि इससे पहले संभल जिले में भी इसी तरह का मामला सामने आया था। सेगड़ा पीर विद्यालय से मिली जानकारी के अनुसार कक्षा दो में पढ़ने वाली छात्रा बृहस्‍पतिवार को जब घर नहीं पहुंची तो उसकी तलाश शुरू हुई, उसके घरवाले स्कूल पहुंचे लेकिन स्कूल बंद मिला। इसमें कहा गया कि इसी दौरान कक्षा में बंद बच्ची के रोने की आवाज सुनकर वहां उसके होने का पता चला,जिसके बाद स्कूल के कर्मचारी को बुला कक्षा खुलवाकर छात्रा को बाहर निकाला गया।

इसे भी पढ़ें: पीएफआई से संपर्क के संदेह में एनआईए ने सामुदायिक भवन पर मारा छापा

जानकारी के अनुसार, डरी सहमी बच्ची का किसी ने वीडियो बना लिया और उसे सोशल मीडिया पर पोस्‍ट कर दिया। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) बीके शर्मा ने घटना की पुष्टि करते हुए शुक्रवार को बताया, जिले के गुलावठी विकास खंड के संबंधित विद्यालय में छुट्टी के बाद दूसरी कक्षा की छात्रा को स्टाफ कमरे में बंद करके चला गया। यह बहुत बड़ी लापरवाही है और इसमें हम पूरे विद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारी को निलंबित करने जा रहे हैं। शर्मा ने बताया कि स्कूल में प्रधानाध्यापक के अलावा दो महिला शिक्षक और दो पुरुष शिक्षक हैं, इनके अलावा दो शिक्षामित्र और एक चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी तैनात है। उन्‍होंने बताया कि बृहस्‍पतिवार को प्रखंड स्तर पर यूनियन का चुनाव था, जिसमें शिक्षक चले गए थे। स्कूल में प्रधानाध्यापक रह गए लेकिन उनकी लापरवाही यह रही कि वह समय से पहले ही चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के हवाले बच्चों को छोड़कर चले गए।

बीएसए ने कहा कि इसमें सभी की लापरवाही मानी जाएगी, बच्चों के प्रति पूरे स्टाफ की जिम्मेदारी बनती है, इसलिएहम सारे स्टाफ को निलंबित कर रहे हैं। गौरतलब है कि इसके पहले 20 सितंबर को संभल जिले के धनारी पट्टी बालू पट्टी गांव के सरकारी प्राथमिक विद्यालय में सात साल की एक छात्रा के रात भर स्‍कूल के एक कमरे में बंद रहने के मामले में वहां के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने कड़ी कार्यवाही करते हुए दो शिक्षकों को निलंबित कर दिया था। संभल के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) चंद्र शेखर ने पीटीआई- को बताया था कि प्राथमिक विद्यालय धनारी पट्टी बालू पट्टी में पिछले 20 सितंबर को एक छात्रा स्‍कूलकर्मियों की लापरवाही से रात भर स्कूल में बंद रह गई थी और अगली सुबह स्‍कूल खुलने पर इसका पता लगा था। उन्‍होंने बताया कि खंड शिक्षा अधिकारी की रिपोर्ट पर दो शिक्षकों को निलंबित कर दिया गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़