भाजपा ने बंगाल में 3 महीने के भीतर 3 करोड़ सदस्य बनाने का रखा लक्ष्य

भाजपा ने बंगाल में 3 महीने के भीतर 3 करोड़ सदस्य बनाने का रखा लक्ष्य

भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि अभी राज्य में भाजपा के 98 लाख सदस्य हैं और अगले तीन महीनों में हमारा लक्ष्य 3 करोड़ सदस्य जुटाने का है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में भाजपा कोरोना वायरस महामारी को एक मौके की तरह भुनाने का प्रयास करेगी। जहां पार्टी महामारी की वजह से कोई बड़ा आयोजन नहीं कर सकती है। ऐसे में वह लोगों के घर-घर जाकर उन्हें भाजपा से जोड़ने का प्रयास करेगी। इतना ही नहीं राज्य में लगातार भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों के खिलाफ हो रही हिंसा के विरोध में पार्टी 4 सितंबर को एक धरना-प्रदर्शन करने वाली है। हालांकि, पार्टी को लगता है कि ममता सरकार उनकी योजना को विफल करने के लिए उस दिन प्रदेश में लॉकडाउन की घोषणा कर सकती हैं। 

इसे भी पढ़ें: तथागत रॉय ने विजयवर्गीय से मुलाकात की, भाजपा में शामिल होने की जतायी इच्छा 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि जिस तरह से राज्य में हिंसा हो रही है उससे यहां के लोग डरे हुए हैं। जब भी हम कोई कार्यक्रम तय करते हैं तो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उस दिन मनमाने तरीके से लॉकडाउन लगा देती हैं।

इसी के साथ उन्होंने पार्टी की चुनावी रणनीतियों की भी जानकारी साझा की। उन्होंने कहा कि अभी राज्य में भाजपा के 98 लाख सदस्य हैं और अगले तीन महीनों में हमारा लक्ष्य 3 करोड़ सदस्य जुटाने का है। इसके लिए भाजपा ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह से अभियान चलाएगी। फिलहाल घर-घर जाकर सदस्य बनाने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। 

इसे भी पढ़ें: अगले महीने से शुरू होगा पश्चिम बंगाल विधानसभा का सत्र 

बंगाल में बढ़ा भाजपा का वोटबैंक

रिपोर्ट्स के मुताबिक दिलीप घोष ने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को 86 लाख वोट मिले थे जो 2019 में बढ़कर 2 करोड़ 30 लाख हो गए थे। जिस तरह से पार्टी के वोटबैंक में इजाफा हुआ है, ठीक उसी प्रकार पार्टी सदस्यों की संख्या में भी वृद्धि होगी। इसके लिए पार्टी कार्यकर्ता राज्य के हर एक मतदाता तक पहुंचने का प्रयास कर रहे हैं।

पूर्व गवर्नर तथागत रॉय हो सकते हैं सक्रिय

बंगाल की राजनीति में पूर्व गवर्नर तथागत रॉय ने सक्रिय होने के संकेत दे दिए हैं। वह जल्द ही भाजपा की सदस्यता लेंगे। उनके इस ऐलान से ममता बनर्जी की मुश्किलें बढ़ गईं हैं। बता दें कि भाजपा के संगठन स्तर तक पूर्व गवर्नर तथागत रॉय की मजबूत पकड़ मानी जाती है। वह साल 2002-2006 तक भाजपा की बंगाल इकाई के अध्यक्ष और साल 2002 में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य के तौर पर काम कर चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने स्वास्थ्य व्यवस्था में विनियमितताओं की स्वतंत्र जांच करने की अपील की 

पूर्व गवर्नर तथागत रॉय की वापसी से जुड़े मुद्दे पर दिलीप घोष ने कहा कि वह काफी अनुभवी हैं। अभी बंगाल में ज्यादातर नए लोग काम कर रहे हैं ऐसे में अगर कोई वरिष्ठ नेता हमारे साथ रहेगा तो हमारे लिए अच्छा रहेगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।