पश्चिम बंगाल में स्कूल पाठ्यक्रम में कोरोना वायरस पर पाठ शामिल करने पर विचार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 30, 2020   13:57
पश्चिम बंगाल में स्कूल पाठ्यक्रम में कोरोना वायरस पर पाठ शामिल करने पर विचार

पाठ्यक्रम समिति के एक अधिकारी ने कहा कि राज्य शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने हाल ही में कोरोना वायरस की प्रकृति और प्रकोप को रोकने के उपाय के बारे में सूचना के प्रचार-प्रसार का मुद्दा उठाया था।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल का शिक्षा विभाग कोविड-19 के बारे में विद्यार्थियों को जागरुक बनाने के प्रयास के तहत2021 से स्कूल पाठ्यक्रम में घातक वायरस पर एक पाठ शामिल करने पर विचार कर रहा है। पाठ्यक्रम समिति के एक अधिकारी ने कहा कि राज्य शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने हाल ही में कोरोना वायरस की प्रकृति और प्रकोप को रोकने के उपाय के बारे में सूचना के प्रचार-प्रसार का मुद्दा उठाया था। पाठ्यक्रम समिति के प्रमुख अवीक मजूमदार ने बताया, “हम सदस्यों और विशेषज्ञों के बीच इस विषय पर चर्चा का आयोजन कर रहे हैं।” 

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने मेट्रो को जल्द से जल्द शुरू करने का किया आग्रह, कहा- सीमित तरीके से हो संचालन

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि छोटी से लेकर बड़ी कक्षाओं के पाठ्यक्रम में कोरोना वायरस पर पाठ शामिल करने पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 प्रकोप के मद्देनजर छोटी कक्षाओं के लिए संक्रमण को रोकने में साफ-सफाई के बुनियादी तरीकों और सुरक्षा उपायों को सीखना तथा बड़ी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए संक्रामक रोग के प्रकार और उसके म्यूटेंट्स को जानना जरूरी है। मजूमदार ने कहा, “पाठ की सटीक समाग्री पर फैसला लेने से पहले शिक्षकों एवं शिक्षाविदों के अलावा हमारे लिए चिकित्सकों, विषाणु वैज्ञानिकों, महामारी विदों के विचार जानना भी जरूरी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।