हैदराबाद से शुरू करके पूरा दक्षिण भारत ‘भगवा रंग’ में रंग जाएगा: तेजस्वी सूर्या

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2020   20:29
  • Like
हैदराबाद से शुरू करके पूरा दक्षिण भारत ‘भगवा रंग’ में रंग जाएगा: तेजस्वी सूर्या

जीएचएमसी के लिए एक दिसंबर को होने वाले चुनाव में अपनी पार्टी के पक्ष में प्रचार करते हुए भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के अध्यक्ष ने सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) पर तेलंगाना की राजधानी को विकसित करने के अपने चुनावी वादे को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाया।

हैदराबाद। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के युवा मोर्चा के अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने मंगलवार को दावा किया कि भाजपा द्वारा ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) से शुरू करके एक-एक कर चुनाव जीतने के साथ ही पूरा दक्षिण भारत ‘भगवा रंग’ में रंग जाएगा। जीएचएमसी के लिए एक दिसंबर को होने वाले चुनाव में अपनी पार्टी के पक्ष में प्रचार करते हुए भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के अध्यक्ष ने सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) पर तेलंगाना की राजधानी को विकसित करने के अपने चुनावी वादे को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाया।

उन्होंने मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव पर परिवार के शासन को बढ़ावा देने का भी आरोप लगाया। कर्नाटक के युवा भाजपा सांसद सूर्या ने कहा कि आगामी जीएचएमसी चुनाव तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए माहौल बनाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘हम जीएचएमसी जीतेंगे, हम तेलंगाना विधानसभा चुनाव जीतेंगे, हम तमिलनाडु और केरल भी जीतेंगे तथा पूरा दक्षिण भारत भगवा रंग में रंग जाएगा।’’ उन्होंने कहा कि हैदराबाद एक महान शहर रहा है और उसे जिस नयी दिशादृष्टि एवं शासन की जरूरत है वह भाजपा नेतृत्व ही दे सकता है। उन्होंने राव पर निशाना साधते हुए कहा कि तेलंगाना अनेक संघर्षों और बलिदानों के बाद बना है तथा यह किसी एक परिवार की जागीर नहीं हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: आया निकाय चुनाव बीजेपी-ओवैसी में सियासी तनाव, हैदराबाद में रोहिंग्या, शेरवानी और बिरयानी

भाजपा नेता ने कहा कि केसीआर ने ‘स्वर्णिम तेलंगाना’ का वादा किया था लेकिन ‘स्वर्ण’ केवल उनकी पार्टी एवं उनके परिवार को ही मिला जबकि राज्य के युवा के हाथ कुछ नहीं आया। उन्होंने कहा कि भाजपा ही एकमात्र ऐसा दल है जहां एक साधारण परिवार से आने वाला एक सामान्य कार्यकर्ता पार्टी का अध्यक्ष बन सकता है। उन्होंने पुलिस पर उन्हें उस्मानिया विश्वविद्यालय में घुसने से रोकने का आरोप लगाया। हालांकि पुलिस ने इसका खंडन किया और कहा कि सांसद अपने समर्थकों के साथ परिसर में गये और वहां उन्होंने शांतिपूर्ण ढंग से बैठक की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


विण्डवा आश्रम पर हुई महापंचायत, हरिगिरी महाराज बोले प्रदेश में होना चाहिए शराबबंदी

  •  दिनेश शुक्ल
  •  फरवरी 26, 2021   23:35
  • Like
विण्डवा आश्रम पर हुई महापंचायत, हरिगिरी महाराज बोले प्रदेश में होना चाहिए शराबबंदी

महापंचायत में मौजूद लोगों ने भी महाराज की बात का समर्थन करते हुए शराबबंदी लागू होने की बात कही। उधर महापंचायत में दहेजबंदी का भी मुद्दा उठा। महाराज ने लोगों का इस सामाजिक बुराई से दूर रहने का आव्हान किया।

मुरैना। मध्य प्रदेश में शराबबंदी को लेकर लंबे समय से अपनी आवाज बुलंद किए प्रसिद्ध संत हरिगिरी महाराज के आश्रम पर आज महापंचायत हुई। महापंचायत में कई गांवों के हजारों लोग पहुंचे। इस अवसर पर हरिगिरी महाराज ने पूरी तरह से प्रदेश में शराबबंदी करने की मांग सरकार से की है। वहां उपस्थित ग्रामीणों ने भी महाराज की मांग का समर्थन किया है। 

 

इसे भी पढ़ें: जीएसटी के खिलाफ कैट के भारत व्यापार बंद का मध्य प्रदेश में भी रहा असर

चंबल किनारे विण्डवा घाट पर स्थित आश्रम पर शुक्रवार को महापंचायत हुई। महापंचायत में साधू संतों सहित भारी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। महापंचायत में हरिगिरी महाराज ने शराब बंदी का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि कई घरों को बर्बाद करने वाली शराब बंद होनी चाहिए उन्होंने उपस्थित लोगों से शराब का सेवन व बिक्री न करने देने का संकल्प दिलवाया। यहां मंच से सभी ने एक स्वर में कहा कि अगर प्रदेश सरकार शराबबंदी लागू नहीं करेगी तो मुरैना से भोपाल तक की पैदल यात्रा निकाली जाएगी।

 

इसे भी पढ़ें: वन कर्मचारियों पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर जेसीबी छुड़ा ले गया माफिया

महापंचायत में मौजूद लोगों ने भी महाराज की बात का समर्थन करते हुए शराबबंदी लागू होने की बात कही। उधर महापंचायत में दहेजबंदी का भी मुद्दा उठा। महाराज ने लोगों का इस सामाजिक बुराई से दूर रहने का आव्हान किया। गौरतलब है कि हरिगिरी महाराज के शिष्यों ने ग्वालियर स्थित शीतला माता मंदिर से चंबल किनारे विण्डवा आश्रम तक पैदल यात्रा भी निकाली थी। पैदल यात्रा के दौरान साधू संतों ने शराब का सेवन एवं बिक्री न करने का संदेश आमजन को दिया था। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


जीएसटी के खिलाफ कैट के भारत व्यापार बंद का मध्य प्रदेश में भी रहा असर

  •  दिनेश शुक्ल
  •  फरवरी 26, 2021   23:25
  • Like
जीएसटी के खिलाफ कैट के भारत व्यापार बंद का मध्य प्रदेश में भी रहा असर

व्यापारी न तो सड़कों पर आए और न ही उन्होंने कारोबार किया। बंद को 35 से ज्यादा संगठनों का हमें सहयोग भी मिला। वहीं, कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के प्रदेश सचिव विवेक साहू ने कहा कि कंफेडरेशन की नागपुर में हुई बैठक के बाद इस बंद को आयोजित किया गया।

भोपाल। राजधानी भोपाल में कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) और भोपाल किराना व्यापारी महासंघ द्वारा जीएसटी के प्रावधानों के विरोध में बंद रखा गया। हालांकि बंद स्वैच्छिक रहा, लेकिन इसका असर प्रदेश के पुराने बाजारों के साथ खास तौर पर थोक किराना व्यापार पर नजर आया। भोपाल में थोक किराना समेत कई प्रमुख मार्केट बंद रहे। इसके चलते करीब 300 करोड़ के कारोबार के  नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है।

 

इसे भी पढ़ें: वन कर्मचारियों पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर जेसीबी छुड़ा ले गया माफिया

पुराने भोपाल शहर के जुमेराती बाजार में शुक्रवार को सुबह से ही बंद का असर दिखाई दिया। यहां सभी व्यापारियों ने अपनी दुकानें नहीं खोलीं। भोपाल किराना व्यापारी महासंघ के महासचिव अनुपम अग्रवाल ने बताया कि हम चाहते हैं कि जीएसटी के कुछ प्रावधानों में बदलाव हो। उन्होंने कहा कि बंद पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहा। व्यापारी न तो सड़कों पर आए और न ही उन्होंने कारोबार किया। बंद को 35 से ज्यादा संगठनों का हमें सहयोग भी मिला।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के तेंदूखेड़ा में दुष्कर्म करने का आरोपी ढोंगी बाबा गिरफ्तार

वहीं, कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के प्रदेश सचिव विवेक साहू ने कहा कि कंफेडरेशन की नागपुर में हुई बैठक के बाद इस बंद को आयोजित किया गया। अधिकांश यूनियन इस बंद के समर्थन में हैं। देश के 8 करोड़ व्यापारी एवं 40,000 से अधिक व्यापारी संगठनो ने जीएसटी की विसंगतियों के खिलाफ भारत व्यापार बंद को अपने प्रतिष्ठान बंद रखकर सफल बनाया। वही मध्य प्रदेश के भोपाल, जबलपुर, उज्जैन, सतना, नीमच रीवा, सागर, ग्वालियर, विदिशा सहित अनेक जिलों में भारत व्यापार बंद सार्थक रहा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


वन कर्मचारियों पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर जेसीबी छुड़ा ले गया माफिया

  •  दिनेश शुक्ल
  •  फरवरी 26, 2021   22:57
  • Like
वन कर्मचारियों पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर जेसीबी छुड़ा ले गया माफिया

बताया गया है कि वन विभाग के दल ने मगर कुण्डा पहुंचकर ऑपरेटर सहित जेसीबी को अपने कब्जे में ले लिया, लेकिन इसी दौरान झाडिय़ों में छिपे बैठे करीब 15-16 लोगों ने बंदूकों और कट्टों से वन कर्मचारियों पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। खनन माफिया ने लगभग 15 से 20 राउण्ड गोलियां चलाईं।

ग्वालियर। मध्य प्रदेश में ग्वालियर के आरक्षित और संरक्षित वन क्षेत्रों में सक्रिय खनन माफिया अब मरने-मारने पर उतारू हो गए हैं। वे हर कीतम पर जंगलों से कीमती फर्शी पत्थर निकालकर ले जाना चाहते हैं। मैदानी वन कर्मचारी उन्हें जब भी रोकने का प्रयास करते हैं तो खनन माफिया न केवल पथराव करते हैं बल्कि गोलियां भी चलाते हैं। इसी क्रम में गुरुवार-शुक्रवार की रात में सोनचिरैया अभयारण्य की तिघरा गेमरेंज के अंतर्गत कालाखेत के जंगल में अवैध खनन रोकने पहुंचे वन कर्मचारियों पर खनन माफिया ने ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं और मौसे से ऑपरेटर सहित जेसीबी को छुड़ाकर ले गए। कालाखेत के जंगल में फरवरी माह में ही यह तीसरा मौका है, जब खनन माफिया ने वन कर्मचारियों पर जानलेवा हमला किया है। इससे पहले खनन माफिया वन कर्मचारियों पर दो बार हमला कर चुके हैं। 

 

इसे भी पढ़ें: अंधे कत्ल का पर्दाफाश, मृतक की पत्नी ने जीजा के साथ मिलकर की हत्या

जानकारी के अनुसार बीते गुरुवार को देर रात वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना मिली कि तिघरा गेमरेंज के अंतर्गत कालाखेत के जंगल में कुछ लोग अवैध खनन के उद्देश्य से जेसीबी से नया गड्ढा खोद रहे हैं। इस पर वन परिक्षेत्र अधिकारी विकास मिश्रा के नेतृत्व में 10 से 12 वन कर्मचारियों का एक दल मौके पर भेजा गया। रात करीब 12.30 बजे वन कर्मचारियों का दल कालाखेत के जंगल में स्थित कक्ष क्रमांक 360 में पहुंचा तो वहां जेसीबी की आवाज सुनाई दी। वन कर्मचारी आवाज की दिशा में चलते हुए जब तक मौके पर पहुंचे तो खनन माफिया ने जीसीबी को वहां से कुछ ही दूरी पर स्थित मगर कुण्डा नामक स्थान पर छिपा दिया। इसके बाद जेसीबी को तलाशने के लिए वन कर्मचारी जंगल में सर्चिंग करने लगे। साथ ही मुंडे बाबा वन चौकी से अन्य कर्मचारियों को भी मौके पर बुला लिया, जिनमें एसएएफ के चार सशस्त्र जवान भी शामिल थे।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के तेंदूखेड़ा में दुष्कर्म करने का आरोपी ढोंगी बाबा गिरफ्तार

बताया गया है कि वन विभाग के दल ने मगर कुण्डा पहुंचकर ऑपरेटर सहित जेसीबी को अपने कब्जे में ले लिया, लेकिन इसी दौरान झाडिय़ों में छिपे बैठे करीब 15-16 लोगों ने बंदूकों और कट्टों से वन कर्मचारियों पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। खनन माफिया ने लगभग 15 से 20 राउण्ड गोलियां चलाईं। चूंकि फायरिंग के दौरान कुछ वन कर्मचारी जेसीबी मशीन के पास मौजूद थे, इसलिए वन कर्मचारियों ने जावाबी फायरिंग नहीं की क्योंकि जवाबी फायरिंग करने से साथी कर्मचारियों को नुकसान पहुंचने की संभावरा थी। इस विपरीत परिस्थिति में वन कर्मचारियों ने पेड़ों की ओट में छिपकर अपनी जान बचाई। इसी मौके का फायदा उठाकर खनन माफिया ऑपरेटर और जेसीबी मशीन को छुड़ाकर प्रयागपुरा गांव में जाकर छिप गए। इस घटना के बाद वन कर्मचारी तिघरा थाने पहुंचे और पूरा घटनाक्रम पुलिस को बताया। इस पर पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर मामले की विवेचना प्रारंभ कर दी है।

 

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति के मध्य प्रदेश प्रवास को लेकर तैयारियां शुरू, 6 और 7 मार्च को है प्रस्तावित यात्रा

सूत्रों के अनुसार खनन माफिया जब वन कर्मचारियों पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर रहे थे। उसी दौरान वन कर्मचारियों के साथ मौजूद एसएएफ के चार जवानों में से एक जवान के हाथ से हड़बड़ाहट में बंदूक (कार्वाइन गन) वहीं कहीं गिर गई। बताया गया है कि घटना के बाद की गई सर्चिंग के दौरान बंदूक जंगल में ही पड़ी मिल गई। हालांकि वन विभाग के किसी अधिकारी ने आधिकारिक रूप से बंदूक गिरने और मिलने के घटनाक्रम की पुष्टि नहीं की है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept