हैदराबाद से शुरू करके पूरा दक्षिण भारत ‘भगवा रंग’ में रंग जाएगा: तेजस्वी सूर्या

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2020   20:29
हैदराबाद से शुरू करके पूरा दक्षिण भारत ‘भगवा रंग’ में रंग जाएगा: तेजस्वी सूर्या

जीएचएमसी के लिए एक दिसंबर को होने वाले चुनाव में अपनी पार्टी के पक्ष में प्रचार करते हुए भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के अध्यक्ष ने सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) पर तेलंगाना की राजधानी को विकसित करने के अपने चुनावी वादे को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाया।

हैदराबाद। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के युवा मोर्चा के अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने मंगलवार को दावा किया कि भाजपा द्वारा ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) से शुरू करके एक-एक कर चुनाव जीतने के साथ ही पूरा दक्षिण भारत ‘भगवा रंग’ में रंग जाएगा। जीएचएमसी के लिए एक दिसंबर को होने वाले चुनाव में अपनी पार्टी के पक्ष में प्रचार करते हुए भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के अध्यक्ष ने सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) पर तेलंगाना की राजधानी को विकसित करने के अपने चुनावी वादे को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाया।

उन्होंने मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव पर परिवार के शासन को बढ़ावा देने का भी आरोप लगाया। कर्नाटक के युवा भाजपा सांसद सूर्या ने कहा कि आगामी जीएचएमसी चुनाव तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए माहौल बनाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘हम जीएचएमसी जीतेंगे, हम तेलंगाना विधानसभा चुनाव जीतेंगे, हम तमिलनाडु और केरल भी जीतेंगे तथा पूरा दक्षिण भारत भगवा रंग में रंग जाएगा।’’ उन्होंने कहा कि हैदराबाद एक महान शहर रहा है और उसे जिस नयी दिशादृष्टि एवं शासन की जरूरत है वह भाजपा नेतृत्व ही दे सकता है। उन्होंने राव पर निशाना साधते हुए कहा कि तेलंगाना अनेक संघर्षों और बलिदानों के बाद बना है तथा यह किसी एक परिवार की जागीर नहीं हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: आया निकाय चुनाव बीजेपी-ओवैसी में सियासी तनाव, हैदराबाद में रोहिंग्या, शेरवानी और बिरयानी

भाजपा नेता ने कहा कि केसीआर ने ‘स्वर्णिम तेलंगाना’ का वादा किया था लेकिन ‘स्वर्ण’ केवल उनकी पार्टी एवं उनके परिवार को ही मिला जबकि राज्य के युवा के हाथ कुछ नहीं आया। उन्होंने कहा कि भाजपा ही एकमात्र ऐसा दल है जहां एक साधारण परिवार से आने वाला एक सामान्य कार्यकर्ता पार्टी का अध्यक्ष बन सकता है। उन्होंने पुलिस पर उन्हें उस्मानिया विश्वविद्यालय में घुसने से रोकने का आरोप लगाया। हालांकि पुलिस ने इसका खंडन किया और कहा कि सांसद अपने समर्थकों के साथ परिसर में गये और वहां उन्होंने शांतिपूर्ण ढंग से बैठक की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।