सतीश पूनियां की विवादित टिप्पणी को लेकर राजस्थान विधानसभा में जबरदस्त हंगामा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2022   17:03
सतीश पूनियां की विवादित टिप्पणी को लेकर राजस्थान विधानसभा में जबरदस्त हंगामा

भाजपा की राजस्थान इकाई के अध्यक्ष सतीश पूनियां की एक विवादित टिप्पणी को लेकर राज्य विधानसभा में बृहस्पतिवार को जबरदस्त हंगामा हुआ। सत्तारूढ़ कांग्रेस की महिला विधायकों ने पूनियां से अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगने की मांग की। हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित करनी पड़ी।

जयपुर। भाजपा की राजस्थान इकाई के अध्यक्ष सतीश पूनियां की एक विवादित टिप्पणी को लेकर राज्य विधानसभा में बृहस्पतिवार को जबरदस्त हंगामा हुआ। सत्तारूढ़ कांग्रेस की महिला विधायकों ने पूनियां से अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगने की मांग की। हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित करनी पड़ी। शून्यकाल में मंत्री ममता भूपेश ने यह मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पूनियां ने महिला विरोधी बयान दिया है और उन्हें अपने बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में दूरबीन लगाकर भी नहीं दिख रहे बाहुबली : अमित शाह

इस मांग को लेकर सत्ता पक्ष की महिला विधायक आसन के पास आ गईं। वहीं, भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने रीट की सीबीआई जांच करवाने की मांग को लेकर नारेबाजी की। हंगामे के बीच विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने सदन की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी। उल्लेखनीय है कि पूनियां ने बुधवार को राज्य के बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि यह लीपापोती वाला बजट है और ऐसा लग रहा है कि किसी काली दुल्हन को ब्यूटी पार्लर में ले जाकर उसका अच्छे से शृंगार करके पेश कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: यूपी के राजनेता वोट पाने के लिए जाति-धर्म पर निर्भर, प्रदर्शन पर नहीं : प्रियंका गांधी

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा सहित अन्य नेताओं ने पूनियां के इस कथन की कड़ी निंदा की थी। हालांकि, बृहस्पतिवार को खुद पूनियां ने इस टिप्पणी पर एक तरह से खेद जताते हुए कहा कि आमतौर पर वह ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि वह तो बजट पर प्रतिक्रिया दे रहे थे, इस दौरान कुछ शब्द अनायास ही बोल दिए। पूनियां ने कहा, “अगर मेरे शब्दों से किसी की भावना को ठेस पहुंची है तो मैं विनम्रता से माफी मांगता हूं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...