Kasturba Gandhi birth anniversary: साए की तरह हमेशा गांधी जी के साथ रही उनकी पत्नी कस्तूरबा मोहनदास गांधी, पति के सामने ली थी अंतिम सांस

Kasturba Gandhi
निधि अविनाश । Apr 11, 2022 12:55PM
कस्तूरबा पहली बार दक्षिण अफ्रीका में राजनीति और सामाजिक सक्रियता में शामिल हुईं। 1904 में उन्होंने मोहनदास और अन्य लोगों को डरबन के पास फिनिक्स सेटलमेंट स्थापिता करने में मदद की। 1913 में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय प्रवासियों के साथ हो रहे दुर्व्यव्हार के विरोध में भाग लेने के लिए कस्तूरबा को गिरफ्तार किया गया।

कस्तूरबा कपाड़िया जिनका शादी के बाद पूरा नाम कस्तूरबा मोहनदास गांधी हुआ मोहनदास करमचंद गांधी की पत्नी थी।कस्तूरबा का जन्म 11 अप्रैल 1869 में पोरबंदर में हुआ था। कस्तूरबा का जन्म एक धनी व्यापारी गोकुलदास कपाड़िया और उनकी पत्नी व्रजकुंवरबा के घर हुआ था। उनका परिवार और मोहनदास गांधी दोस्त थे और 1882 में जब कस्तूरबा 13 साल की हुई तो गांधी और कस्तूरबा की शादी करा दी गई। वह राजकोट में गांधी के घर में रहने लगी। बता दें कि कस्तूरबा ने अपनी शादी से पहले कोई स्कूली शिक्षा प्राप्त नहीं की थी और गांधी जी ने उन्हें प्रारंभिक शिक्षा प्रदान की।

इसे भी पढ़ें: Matrubhoomi: प्राचीन है भारतीय खेलों का इतिहास, जानिए कुश्ती से लेकर शतरंज तक की कहानी

कस्तूरबा गांधी ने 1885 में एक बच्चे को जन्म दिया लेकिन जन्म के कुछ समय बाद ही बच्चे की मृत्यु हो गई। फिर शादी के 6 साल बाद गांधी और कस्तूरबा की पहली संतान एक बेटा, हरिलाल का जन्म 1888 में हुआ।हरिलाल के जन्म के बाद गांधी लंदन में कानून की पढ़ाई करने के लिए चले गए, वहीं कस्तूरबा अपने बच्चे के साथ रोजकोट में ही रह गई। बता दें कि गांधी और कस्तूरबा के तीन और बेटे हुए, मणिलाल, रामदास और देवदास। एक बार फिर जब गांधी 1893 में कानून की प्रेक्टिस करने के लिए दक्षिण अफ्रीका गए तब भी कस्तूरबा अपने बच्चों के साथ राजकोट में ही रही। फिर गांधी जी 1896 को वापस भारत लौट आए और फिर 1903 को गांधी अपने परिवार के साथ दक्षिण अफ्रीका वापस लौट गए। बता दें कि, कसतूरबा के दो बच्चों का जन्म दक्षिण अफ्रीका में ही हुआ था।

 

कस्तूरबा पहली बार दक्षिण अफ्रीका में राजनीति और सामाजिक सक्रियता में शामिल हुईं। 1904 में उन्होंने मोहनदास और अन्य लोगों को डरबन के पास फिनिक्स सेटलमेंट स्थापिता करने में मदद की। 1913 में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय प्रवासियों के साथ हो रहे दुर्व्यव्हार के विरोध में भाग लेने के लिए कस्तूरबा को गिरफ्तार किया गया और वह तीन महीने की जेल की सजा सुनाई गई। परिवार ने जुलाई 1914 में अंतिम बार दक्षिण अफ्रीका छोड़ दिया और 1915 की शुरूआत में भारत आने से पहले इंग्लैंड की यात्रा की। कस्तूरबा को दक्षिण अफ्रीका में स्वास्थ्य समस्याएं भी हुई। दृढ़-इच्छाशक्ति कस्तूरबा और गांधी समेत कई अन्यों ने पूरे भारत में नागरिक कारवाईयों और विरोध प्रदर्शनों की बढ़ती संख्या में भाग लेना जारी रखा। जब गांधी जी जेल गए तब उनकी जगह कस्तूरबा होती थी। कभी-कभी वह गांधी की इच्छा के विरोध में भी कई गतिविधियां करती थी और गांधी जी इस बीच कस्तूरबा के स्वास्थ्य को लेकर काफी चिंतित थे। 1917 में जब गांधी जी बिहार के चंपारण में नील किसानों की स्थिति में सुधार के लिए काम कर रहे थे तब कस्तूरबा महिलाों के कल्याण के लिए लड़ रही थी। 1922 में उन्होंने गुजरात के बोरसाड में एक अहिंसक सविनय अवज्ञा जिसे सत्याग्रह आंदोलन भी कहा जाता है में भाग लिया। हालांकि, उन्होंने 1930 में गांधी के प्रसिद्ध नमक मार्च में भाग नहीं लिया, लेकिन उन्होंने 1930 के दशक की शुरूआतो में कई सविनय अवज्ञा अभियानों में भाग लिया और इस दौरान वह कई बार जेल भी गई।

इसे भी पढ़ें: Matrubhoomi: भारत के पहले फील्ड मार्शल जिसके नेतृत्व में भारत ने 1971 की जंग में पाकिस्तान को चटाई थी धूल

1939 की शुरूआत में कस्तूरबा राजकोट में अग्रेंजो के खिलाफ अहिंसक विरोध प्रदर्शनों में भाग लिया। इस दौरान उन्हें गिरफ्तार कर शहर के पास एक महीने के लिए कारावास में रखा गया। बता दें कि इस दौरान ही कस्तूरबा गांधी की तबीयत ज्यादा बिगड़ने लगी। 1942 में उन्हें भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेने के लिए एक बार फिर से गिरफ्तार किया गया और पुणे में आगा खान पैलेस में गांधी और अन्य कई  स्वतंत्रता-समर्थक नेताओं के साथ कैद कर दिया गया। जेल में रहते हुए कस्तूरबा की हालत बिगड़ गई और उन्हें निमोनिया हो गया। साल 1944 की शुरूआत में निधन होने से पहले कस्तूरबा को दिल के दौरे का भी सामना करना पड़ा था और इस बीच 22 फरवरी 1944 को पुणे में उनकी मौत हो गई।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़