दिल्ली बम धमाके के गुनहगार भुल्लर की रिहाई को लेकर गंदी राजनीति कर रहा शिअद: केजरीवाल

Kejriwal
शिअद के आरोपों के बारे में पूछने पर आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने कहा कि यह एक संवेदनशील मामला है और शिअद गंदी राजनीति कर रहा है। हम इसकी निंदा करते हैं।’’ सिखों की सर्वोच्च संस्था शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी भी भुल्लर की रिहाई मामले में आप के ‘नकारात्मक रवैये’ को लेकर खिंचाई कर चुकी है।

चंडीगढ़। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को आरोप लगाया कि वर्ष 1993 के दिल्ली बम धमाके के गुनहगार देविंदर पाल सिंह भुल्लर की रिहाई को लेकर शिरोमणि अकाली दल (शिअद) गंदी राजनीति कर रहा है। दिल्ली के मुख्यमंत्री का यह बयान शिअद के उस आरोप के एक दिन बाद आया जिसमें कहा गया है कि आम आदमी पार्टी की सरकार भुल्लर की रिहाई में बाधा डाल रही है। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने हाल ही में शांति और सामाजिक सद्भाव का हवाला देते हुए भुल्लर को तत्काल रिहा करने की मांग की थी। भुल्लर को धमाके में नौ लोगों की मौत और 31 लोगों के घायल होने को लेकर सजा सुनाई गई थी। वर्ष 2001 में टाडा कोर्ट ने भुल्लर को फांसी की सजा सुनाई थी, लेकिन वर्ष 2014 में उच्चतम न्यायालय ने इस सजा को आजीवन कारावास में तब्दील कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: UP में 40 फीसदी महिलाओं को टिकट देने वाली कांग्रेस पंजाब में क्यों रह गई पीछे ? दूसरे दलों का भी रहा यही हाल 

बादल ने केजरीवाल से अपील की थी कि वह सामुदायिक पक्षपात या राजनीतिक और चुनावी अवसरवादिता को अपने फैसले और भुल्लर की रिहाई के लिए तत्काल मंजूरी देने से इनकार करने का आधार नहीं बनाएं। शिअद के आरोपों के बारे में पूछने पर आप के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने कहा, ‘‘यह एक संवेदनशील मामला है और शिअद गंदी राजनीति कर रहा है। हम इसकी निंदा करते हैं।’’ सिखों की सर्वोच्च संस्था शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी भी भुल्लर की रिहाई मामले में आम आदमी पार्टी के ‘नकारात्मक रवैये’ को लेकर खिंचाई कर चुकी है और केंद्र सरकार से हस्तक्षेप की मांग की है। पंजाब में 20 फरवरी को चुनाव होनेहैं और शिअद विभिन्न मुद्दों को लकर आप पर निशाना साध रही है। 

इसे भी पढ़ें: Kejriwal In Pujnab | केजरीवाल बोले- मैं खुद बनिया हूं परन्तु दिल्ली के बनिए मुझे वोट नहीं देते थे

पूरी प्रक्रिया को स्पष्ट करते हुए केजरीवाल ने जालंधर में संवाददाताओं से कहा, ‘‘दिल्ली पूर्ण राज्य नहीं है। दिल्ली में पुलिस और कानून-व्यवस्था का विषय उपराज्यपाल के जरिये केंद्र सरकार के अधीन है।’’ शिअद ने हाल ही में कहा था कि उनकी पार्टी का एक प्रतिनिधि मंडल भुल्लर की रिहाई के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलेगा ताकि इस मामले में तत्काल और प्रभावी व्यक्तिगत हस्तक्षेप सुनिश्चित किया जा सके। केंद्र सरकार ने सितंबर 2019 में गुरु नानक देव की 500वीं जयंती पर भुल्लर सहित आठ सिख कैदियों को विशेष छूट देने की सिफारिश की थी। कुछ सिख संगठनों का आरोप है कि दिल्ली की ‘आप’ सरकार भुल्लर की रिहाई के लिए अपनी मंजूरी नहीं दे रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़