'हमारे कुछ सांसदों को खतरा महसूस हुआ जब... ', सोनिया-स्मृति ईरानी की नोकझोंक पर बोलीं निर्मला सीतारमण

nirmala sitharaman
ANI
अंकित सिंह । Jul 28, 2022 4:58PM
केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमारे कुछ लोकसभा सांसदों को खतरा महसूस हुआ जब सोनिया गांधी हमारी वरिष्ठ नेता रमा देवी के पास यह जानने के लिए आईं कि क्या हो रहा था, इस दौरान हमारा एक सदस्य वहां पहुंचा और उन्होंने (सोनिया गांधी) कहा आप मुझसे बात मत करो।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को लेकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की टिप्पणी को लेकर आज राजनीति गर्म रही। खबर तो यह भी है कि लोकसभा में कार्यवाही स्थगित होने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के बीच नोकझोंक हो गयी। अब इसी को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी बड़ा बयान दिया है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमारे कुछ लोकसभा सांसदों को खतरा महसूस हुआ जब सोनिया गांधी हमारी वरिष्ठ नेता रमा देवी के पास यह जानने के लिए आईं कि क्या हो रहा था, इस दौरान हमारा एक सदस्य वहां पहुंचा और उन्होंने (सोनिया गांधी) सदस्य को असहज करते हुए कहा "आप मुझसे बात मत करो"। 

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपत्नी विवाद को लेकर भाजपा ने कांग्रेस को बताया आदिवासी विरोधी, कहा- सोनिया गांधी को मांगनी चाहिए माफी

वित्त मंत्री ने कहा कि पछतावे के बजाय, कांग्रेस पार्टी की सर्वोच्च नेता को हम अधिक से अधिक आक्रामक पाते हैं। सीतारमण ने आरोप लगाया कि सोनिया गांधी भाजपा सदस्यों से ‘धमकी भरे अंदाज’ में बात कर रही थीं। उन्होंने दावा किया कि सोनिया ने भाजपा सांसदों से कहा, ‘‘आप मुझसे बात मत कीजिए।’’ सीतारमण ने कहा कि अधीर कह रहे हैं कि मैं माफी नहीं मांगूंगा और सोनिया गांधी कह रही हैं कि वह पहले ही माफी मांग चुके हैं। आप देश को गुमराह कर रही हैं। मुझे लगता है कि कांग्रेस पार्टी को ये सब बंद करके राष्ट्रपति और पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने पलटवार करते हुए ईरानी के व्यवहार को अमर्यादित बताया। 

इसे भी पढ़ें: 'मेरी हिंदी अच्छी नहीं', अपने बयान पर बोले अधीर रंजन- राष्ट्रपति मुर्मू से मांगूंगा माफी, इन पाखंडियों से नहीं

आपको बता दें कि चौधरी ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में भारत की पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति मुर्मू को ‘राष्ट्रपत्नी’ कहकर संबोधित किया था। इस पर विवाद शुरू हो गया है और संसद के दोनों सदनों में भाजपा सदस्यों ने इस मामले को लेकर हंगामा किया। भाजपा ने और सरकार के मंत्रियों ने इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से माफी मांगने की मांग की है। इसी मुद्दे पर लोकसभा की कार्यवाही दोपहर 12 बजे के कुछ ही देर बाद जब दोबारा स्थगित कर दी गयी तो सोनिया गांधी सत्तापक्ष की सीटों की तरफ गयीं और उन्होंने भाजपा सांसद रमा देवी से पूछना चाहा कि इस विवाद में उनका नाम क्यों खींचा जा रहा है। इसी दौरान स्मृति ईरानी भी वहां पहुंचीं और वह सोनिया गांधी के नजदीक पहुंचकर वस्तुत: चौधरी के बयान का विरोध करती दिखीं। पहले तो सोनिया ने स्मृति ईरानी को अनदेखा करने का प्रयास किया, लेकिन कुछ ही क्षण बाद उन्हें केंद्रीय मंत्री की ओर रुख करके नाराजगी भरे स्वर में कुछ कहते देखा गया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़