शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस ने अनैतिक तरीके से सरकार बनाई: राम नाईक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2019   13:14
शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस ने अनैतिक तरीके से सरकार बनाई: राम नाईक

मुख्यमंत्री पद साझा करने के मुद्दे पर उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी के अपनी चुनाव पूर्व सहयोगी भाजपा से अलग होने के बाद शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस ने ‘महा विकास आघाडी’ (एमवीए) की सरकार बनाई है।

ठाणे (महाराष्ट्र)। उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता राम नाईक ने महाराष्ट्र में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के सरकार बनाने को ‘‘अनैतिक’’ बताया है। उन्होंने कहा कि जनादेश चुनाव पूर्व बने भाजपा-शिवसेना गठबंधन के पक्ष में था, फिर भी जो पार्टिंया संख्याबल में कम थीं वे आखिरकार सत्ता में आईं।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में शिवसेना के साथ गठबंधन कर नया प्रयोग कर सकती है कांग्रेस

मुख्यमंत्री पद साझा करने के मुद्दे पर उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी के अपनी चुनाव पूर्व सहयोगी भाजपा से अलग होने के बाद शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस ने ‘महा विकास आघाडी’ (एमवीए) की सरकार बनाई है। चुनाव के नतीजे आने के एक महीना से अधिक समय बाद बृहस्पतिवार को ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। अक्टूबर में हुए चुनाव में भाजपा 105 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी। शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस ने क्रमश: 56, 54 और 44 सीटें जीतीं।

इसे भी पढ़ें: मोदी की तरह काम नहीं कर पा रहे कुछ मुख्यमंत्री, भाजपा को सतर्क होना होगा

नाईक ने कल्याण में शुक्रवार रात को एक कार्यक्रम से इतर पत्रकारों से कहा, ‘‘लोगों के जनादेश के अनुसार भाजपा ने सबसे अधिक सीटें जीतीं जिसके बाद शिवसेना का स्थान था। दोनों पार्टियों में चुनाव पूर्व गठबंधन हुआ था। इसलिए स्वाभाविक है कि उन्हें सरकार बनानी चाहिए थी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन यह नहीं हो पाया। जिन्होंने सबसे कम सीटें जीतीं और जो इससे पहले यह कहते थे कि वे विपक्ष में बैठेंगे, अब वही एक साथ मिलकर सरकार बनाने के लिए आगे आए हैं। जो भी हुआ वह अनैतिक है।’ नाईक यहां एक व्याख्यान देने के लिए आए थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।