26/11 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के दो करीबी सहयोगियों को हुई 15 साल कैद की सजा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 13, 2021   18:09
  • Like
26/11 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के दो करीबी सहयोगियों को हुई 15 साल कैद की सजा

हाफिज सईद के दो करीबी सहयोगियों को आतंकवाद के वित्तपोषण के मामले में 15 साल कैद की सजा सुनाई गई है।इससे पहले अदालत ने आतंकवाद के वित्तपोषण के तीन मामले में मुजाहिद को 47 साल जेल की सजा सुनायी थी।

लाहौर। पाकिस्तान की एक आतंक रोधी अदालत ने मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और प्रतिबंधित जमात-उद-दावा (जेयूडी) प्रमुख हाफिज सईद के दो करीबी सहयोगियों को आतंकवाद के वित्तपोषण के मामले में 15-15 साल से ज्यादा जेल की सजा सुनायी है। सईद के संगठन के प्रवक्ता याह्या मुजाहिद को भी सजा सुनायी गयी है। लाहौर में आतंकरोधी अदालत ने मंगलवार को सईद के रिश्तेदार अब्दुल रहमान मक्की को भी छह महीने जेल की सजा सुनायी थी। अदालत के एक अधिकारी ने बुधवार को बताया, ‘‘न्यायाधीश अरशद हुसैन भुट्टा ने पंजाब पुलिस के आतंकरोधी विभाग (सीटीडी) द्वारा दर्ज मामले में याह्या मुजाहिद और जफर इकबाल में से प्रत्येक को 15 साल छह महीने और प्रोफेसर अब्दुल रहमान मक्की को छह महीने कैद की सजा सुनायी।’’ इससे पहले अदालत ने आतंकवाद के वित्तपोषण के तीन मामले में मुजाहिद को 47 साल जेल की सजा सुनायी थी।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका में हो सकता है सशस्त्र विरोध प्रदर्शन, 50 राज्यों को FBI ने भेजा अलर्ट

इसी तरह, तीन मामलों में इकबाल को 26 साल की सजा दी गयी थी। मुजाहिद और इकबाल दोनों को करीब 15 साल जेल में रहना होगा क्योंकि उन्हें सुनायी गयी सभी सजा एकसाथ चलेगी। आतंकवादियों के खिलाफ कदम उठाने के लिए पाकिस्तान पर बढ़ रहे अंतरराष्ट्रीय दबाव के बीच पिछले सप्ताह मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर जकी-उर-रहमान लखवी को आतंकवाद के वित्तपोषण के मामले में पांच साल जेल की सजा सुनायी गयी। लखवी को तीन अपराधों के लिए पांच-पांच साल सश्रम कारावास की सजा सुनायी गयी और तीन लाख पाकिस्तानी रुपये (करीब 620 अमेरिकी डॉलर) का जुर्माना लगाया गया। उसकी सजा एक साथ चलेगी। सीटीडी ने अलग अलग शहरों में हाफिज सईद समेत उसके कुछ सहयोगियों के खिलाफ 41 मामले दर्ज किए थे। आतंकरोधी अदालत अब तक पांच मामलों में आतंक के वित्तपोषण के आरोपों को लेकर सईद को कुल मिलाकर 36 साल की सजा सुना चुकी है।

इसे भी पढ़ें: डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर मतदान के लिए तैयार अमेरिकी प्रतिनिधि सभा

सभी मामलों में उसकी सजा एक साथ चलेगी। उसे लाहौर की कोट लखपत जेल में रखा गया है। वर्ष 2008 में मुंबई हमले के लिए जमात उद दावा (जेयूडी) प्रमुख हाफिज सईद के नेतृत्व वाला लश्कर-ए-तैयबा जिम्मेदार था। हमले में छह अमेरिकी नागरिकों समेत 166 लोगों की मौत हो गयी थी। संयुक्त राष्ट्र ने सईद को वैश्विक आतंकी घोषित किया था और अमेरिका ने उस पर एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है। आतंकवाद के वित्तपोषण पर नजर रखने वाली वैश्विक संस्था वित्तीय कार्रवाई कार्यबल (एफएटीएफ) ने भी पाकिस्तान पर दबाव बढ़ा दिया है। पेरिस मुख्यालय वाले एफएटीएफ ने जून 2018 में पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट’ में डाल दिया था और 2019 के अंत तक धनशोधन तथा आतंकवाद के वित्तपोषण के खिलाफ ठोस कदम उठाने को कहा था। हालांकि, कोविड-19 महामारी के कारण समय सीमा आगे बढ़ा दी गयी थी। ‘ग्रे लिस्ट’ में रहने से पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष, विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक से आर्थिक सहायता लेने में दिक्कतें होंगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




वैश्विक चुनौतियों के समाधान में भारत-अमेरिका की साझेदारी होगी अहम साबित: USISPF

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   11:06
  • Like
वैश्विक चुनौतियों के समाधान में भारत-अमेरिका की साझेदारी होगी अहम साबित: USISPF

यूएस-इंडिया स्ट्रेटजिक एंड पार्टनरशिप फोरम ने कहा वैश्विक चुनौतियों के समाधान में भारत एवं अमेरिका की मजबूत भागीदारी अहम साबित होगी।समूह ने बाइडन से द्विपक्षीय वार्ता को भी आगे ले जाने का आग्रह किया है।

वाशिंगटन।वैश्विक समुदाय को प्रभावित करने वाली विभिन्न चुनौतियों के समाधान के लिए भारत और अमेरिका के बीच मजबूत और स्थायी भागीदारी महत्वपूर्ण साबित होगी। भारत केंद्रित एक अमेरिकी कारोबार हितैषी समूह ने यह बात कही है। ‘यूएस-इंडिया स्ट्रेटजिक एंड पार्टनरशिप फोरम’ (यूएसआईएसपीएफ) ने दोनों देशों के रिश्तों को नयी ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए जो बाइडन के नेतृत्व वाली सरकार से कई सिफारिशें की है। समूह ने बाइडन से द्विपक्षीय वार्ता को भी आगे ले जाने का आग्रह किया है।

इसे भी पढ़ें: कमला हैरिस ने कैपिटल की सीढ़ियों पर खड़े होकर पेंस को दी विदाई

समूह ने भारत, अमेरिका के बीच रणनीतिक ‘टू प्लस टू’ वार्ता को उपयोगी बताया है, जिसका विस्तार करते हुए इसमें राष्ट्रीय सुरक्षा हितों के वाणिज्यिक मुद्दों को भी शामिल किया जा सकता है। एशिया की तरफ ध्यान केंद्रित करने की सिफारिश करते हुए यूएसआईएसपीएफ ने ‘क्वाड’ (चार देशों के अनौपचारिक वार्ता समूह) और अन्य समूहों की वार्ता को भी आगे बढ़ाने की अपील की है। यूएसआईएसपीएफ ने कहा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका के वाणिज्यिक और रणनीतिक हितों के लिए भारत विशेष अहमियत रखता है। इसका एक कारण यह भी है कि कई देश चीन पर अपनी निर्भरता कम करने के प्रयास में जुटे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




जो बाइडेन के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद UN के महासचिव ने दिया बड़ा बयान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   10:44
  • Like
जो बाइडेन के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद UN के महासचिव ने दिया बड़ा बयान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि जो बाइडेन प्रशासन के साथ ‘‘बेहद सक्रिय और सकारात्मक’’ तरीके से काम करेंगे।दुजारिक ने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘ शांति और सुरक्षा के मामलों पर अंतरराष्ट्रीय लक्ष्य पूरे करने में अमेरिका की एक अहम भूमिका है।

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र प्रमुख के प्रवक्ता ने अंतरराष्ट्रीय लक्ष्यों को पूरा करने में अमेरिका की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करते हुए बुधवार को कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस और अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन का प्रशासन ‘‘बेहद सक्रिय और सकारात्मक’’ तरीके से मिलकर काम करेंगे। प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा कि गुतारेस सही समय आने पर अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडन से बात करेंगे। दुजारिक ने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘ शांति और सुरक्षा के मामलों पर अंतरराष्ट्रीय लक्ष्य पूरे करने में अमेरिका की एक अहम भूमिका है। हम सतत विकास के लिए और दुनिया के सभी लोगों के लिए मानवाधिकारों को सुनिश्चित करने के लक्ष्य से बाइडन प्रशासन के साथ काम करने को उत्साहित हैं।’’

इसे भी पढ़ें: कमला हैरिस ने कैपिटल की सीढ़ियों पर खड़े होकर पेंस को दी विदाई

दुजारिक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र ने जलवायु, वैश्विक स्वास्थ्य, विश्व स्वास्थ्य संगठन और कोरोना वायरस के मुद्दों पर बाइडन प्रशासन के कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर करने से जुड़ी खबरें देखी हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ हम इन खबरों का स्वागत करते हैं। हम इन घटनाक्रमों का स्वागत करते हैं। इन कार्यकारी आदेशों पर हस्ताक्षर होने के बाद इनके नीति बनते ही हम इसका आधिकारिक रूप से भी स्वागत करेंगे।’’ दुजारिक ने कहा कि महासचिव और नया बाइडन प्रशासन ‘‘ बेहद सक्रिय और सकारात्मक तरीके से’’ मिलकर काम करेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




कमला हैरिस ने कैपिटल की सीढ़ियों पर खड़े होकर पेंस को दी विदाई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   10:23
  • Like
कमला हैरिस ने कैपिटल की सीढ़ियों पर खड़े होकर पेंस को दी विदाई

कमला हैरिस ने अमेरिका की उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने के बाद ऐसी भूमिका निभाई जिसका निर्वहन सामान्य तौर पर निवर्तमान राष्ट्रपति करते हैं।

वाशिंगटन। कमला हैरिस ने अमेरिका की उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने के बाद ऐसी भूमिका निभाई जिसका निर्वहन सामान्य तौर पर निवर्तमान राष्ट्रपति करते हैं। हैरिस और उनके पति डग एमहॉफ ने बुधवार को अमेरिकी कैपिटल की सीढ़ियों पर खड़े होकर पूर्व उपराष्ट्रपति माइक पेंस और उनकी पत्नी केरेन को विदाई दी। दोनों दंपतियों ने सीढ़ी पर कुछ देर तक खड़े होकर बातचीत की और उसके बाद पेंस कार में सवार होकर रवाना हो गए। यह परिपाटी सामान्य रूप से पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप को निभानी थी लेकिन वह शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept