शहजाद पूनावाला ने भ्रष्टाचार के चार स्तंभों के बारे में बताया, INC, TMC, AAP और उद्धव का लिया नाम, जानें क्या कहा

shehsad poonawala.
ANI
अंकित सिंह । Aug 02, 2022 4:42PM
शहजाद पूनावाला ने कहा कि आप सभी ने लोकतंत्र के चार स्तंभ के बारे में सुना होगा। लेकिन आज हम आपको भ्रष्टाचार के चार स्तंभों के बारे में बता रहे हैं। इसके साथ ही शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, उद्धव ठाकरे की पार्टी और आम आदमी पार्टी का नाम लिया।

देश के कई हिस्सों में प्रवर्तन निदेशालय की ओर से ताबड़तोड़ छापेमारी की जा रही है। इस छापेमारी में कई नेताओं के नाम भ्रष्टाचार से जुड़े रहे हैं। यही कारण है कि विपक्षी दल केंद्र के मोदी सरकार पर जबरदस्त तरीके से हमलावर है। भाजपा की ओर से भी विपक्ष के आरोपों का जवाब दिया जा रहा है। इन सब के बीच भाजपा प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने आज भ्रष्टाचार के चार स्तंभ के बारे में बताया है। अपने बयान में शहजाद पूनावाला ने कहा कि आप सभी ने लोकतंत्र के चार स्तंभ के बारे में सुना होगा। लेकिन आज हम आपको भ्रष्टाचार के चार स्तंभों के बारे में बता रहे हैं। इसके साथ ही शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, उद्धव ठाकरे की पार्टी और आम आदमी पार्टी का नाम लिया।  

इसे भी पढ़ें: हेमंत सोरेन पर अर्जुन मुंडा का पलटवार, बोले- दयनीय स्थिति में झारखंड सरकार, जनता की नजरों में हो गए एक्सपोज

भाजपा नेता ने कहा कि INC- I need corruption, TMC- Too much corruption, तीसरा है उद्धव की भ्रष्ट पार्टी है। और चौथी है आप। आपको बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस के अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से पूछताछ कर रही है। तृणमूल कांग्रेस के नेता पार्थ चटर्जी को ईडी ने उनके करीबी के यहां से भारी मात्रा में कैसे मिलने के बाद गिरफ्तार किया है। उद्धव ठाकरे के करीबी और शिवसेना के बड़े नेता संजय राउत को भी पात्रा चॉल मामले में ईडी की ओर से गिरफ्तार किया गया है। वहीं आम आदमी पार्टी के नेता सत्येंद्र जैन भी फिलहाल मनी लॉन्ड्रिंग के केस में ईडी द्वारा गिरफ्तार किए जा चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु बीजेपी प्रमुख का दावा, राज्य संचालित दुग्ध सहकारी आविन की तरफ से रोजाना 2 करोड़ उपभोक्ताओं के साथ की जा रही है ठगी

शहजाद पूनावाला ने आगे कहा कि ईडी की चल रही छापेमारी को देखते हुए जयराम रमेश ने इसे उन्हें चुप कराने की कोशिश बताया। 2,000 करोड़ रुपये की सार्वजनिक संपत्ति, जो स्वतंत्रता सेनानियों की है, जिन्होंने अपने प्राण न्यौछावर कर दिए, का इस्तेमाल एक परिवार की जेब भरने के लिए किया गया। उन्होंने दावा किया कि यह यूपीए सरकार की निगरानी में हुआ। इससे पहले संजय राउत पर हमला करते हुए संबित पात्रा ने कहा कि पात्रा चॉल केस 2007 का है। 47 एकड़ जमीन वाले इस पात्रा चॉल में करीब 672 परिवार कई वर्षों से रहते हैं। MHADA ने 2007 में पात्रा चॉल के पुनर्निमाण के लिए गुरु आशीष डेवलपर्स के साथ एक एग्रीमेंट किया। इस कंपनी में संजय राउत के एक खास व्यक्ति निदेशक थे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़